शेल ने परिपक्व स्टार्ट-अप्स के लिए स्केल ट्रैक किया लॉन्च

नई दिल्ली : शेल ने अपने फ्लैगशिप स्टार्ट-अप इंक्यूबेशन प्रोग्राम – एम 4 प्रोग्राम के अंतर्गत स्केल ट्रैक लाॅन्च करने की घोषणा की है, स्केल ट्रैक उन परिपक्व और ऊर्जा क्षेत्र से जुड़े स्टार्ट-अप्स के लिए है जो अपने कमर्शियल उत्पादों के साथ प्रोडक्ट-मार्केट फिट हासिल कर चुके हैं। यह ट्रैक इन स्टार्ट-अप्स को अपनी रणनीति को मजबूत बनाने तथा परिचालनों में विस्तार करने में मदद देगा और इस मकसद से वैश्विक कंपनियों तथा उद्योग से जुड़े दिग्गज पेशेवरों के बारे में जानकारी देने के साथ-साथ सामग्री संसाधन और शेल टेक्नोलाॅजी सेंटर बेंगलोर स्थित अपनी लैब और मेंटरशिप प्रोग्राम को भी सुलभ कराएगा।

ट्रैक से जुड़े भागीदारों में एबीबी, एवीएल, इंडियन एंजेल नेटवर्क, कैटापुल्ट, महाराष्ट्र स्टेट इनोवेशन सोसायटी, द वर्ल्ड बिजनेस काउंसिल फाॅर सस्टेनेबल डेवलपमेंट, और ओला प्रमुख हैं। शेल और इन भागीदारों के बीच गठबंधन के चलते स्टार्ट-अप्स को कई तरह के लाभ मिलेंगे जैसे अधिक व्यापक नेटवर्क और कस्टमर बेस तक एक्सेस, विषय संबंधी विशेषज्ञता, मेंटरशिप और निवेश के अवसर जिनकी मदद से वे अपने व्यवसाय और बाजार हिस्सेदारी में विस्तार कर सकते हैं। 2020 स्केल ट्रैक का मौजूदा थीम निम्न पर केंद्रित हैः
फ्यूचर आॅफ मोबिलिटी जो कि मोबिलिटी स्पेस में उन्नत स्टार्टअप्स के लिए विशिष्ट प्रकार की तकनीकी बिजनेस मॉडल और एक अलग किस्म की पेशकश लेकर आएगी।

एनर्जी मैनेजमेंट सिस्टम्स जो कि एनर्जी मैनेजमेंट स्पेस में इनोवेटिव स्टार्टअप्स के लिए है और उन्हें एनर्जी आॅडिटिंग से लेकर एफिशिएंसी इंप्रूवमेंट तथा प्रबंधन में मदद करेगा।
स्केल ट्रैक के लिए प्राप्त ढेरों आवेदनों की कड़ी जांच और मूल्यांकन के आधार पर इस वर्श 10 स्टार्ट-अप चुने गए हैं। इनमें से कुछ जैसे एनर्जोस, आईऑटोमेशन, लाॅजिक लैडर, जल टैक्नोलाॅजीज तथा एपीकेमी मौजूदा समय की कुछ बेहद गंभीर किस्म की समस्याओं जैसे प्रदूषण नियंत्रण, ऊर्जा वितरण और भंडारण तथा कचरा प्रबंधन के लिए काम कर रही हैं। अन्य चुने गए स्टार्ट-अप्स हैं आॅफग्रिड, गो ग्रीनईओटी, कम्युटैक ईईई-टैक्सी तथा मेजेंटा पावर जो कि उन्नत टैक्नोलाॅजी और इनोवेटिव बिज़नेस माॅडल समाधानों जैसे बैटरी टैक्नोलाॅजी, व्हीकल-एॅज़-ए-सर्विस, शेयर्ड मोबिलिटी, फ्लीट डिजिटाइजेशन, ईवी चार्जिंग का इस्तेमाल कर रहे हैं और कई इलैक्ट्रिक व्हीकल इकोसिस्टम पर केंद्रित हैं।

शेल कंपनीज इन इंिडया के चेयरमैन नितिन प्रसाद ने कहा कि हम अपने स्थापित एम 4 प्रोग्राम के अंतर्गत नए स्टार्ट-अप्स बैच, स्केल ट्रैक कोहोर्ट का स्वागत करते हुए खुषी महसूस कर रहे हैं। अपने पार्टनर्स के साथ मिलकर, हमारा विश्वास है कि ये युवा पेशेवर प्रोग्राम का लाभ उठा सकेंगे जो उन्हें बेहतर बिज़नेस रणनीति के साथ बाज़ार में उतरने में मददगार होंगे और साथ ही अधिक कुशलतापूर्वक वे अपनी योजनाओं को लागू कर सकते हैं, जिससे वे तेजी से आगे बढ़ सकते हैं। ये स्टार्ट-अप्स भारत को उसकी ऊर्जा यात्रा में मदद देने के साथ-साथ देश में बढ़ रहे क्लीन एनर्जी इकोसिस्टम में भी योगदान करेंगे।

शेल स्टार्टअप हब के चेयरमैन ने कहा कि हमारा मानना है कि कार्पोरेट समुदाय के बीच सहयोगात्मक रवैये से प्रतिभाग, तकनीक और ज्ञान के परस्पर गठबंधन से देश में उद्यमिता के माहौल में तेजी आएगी। शेल एम 4 पार्टनरशिप का उदेश्य स्टार्ट-अप्स के लिए बेहतर मूल्य तैयार करना है। यह बेहद खास प्रोग्राम है, जिसके चलते स्टार्ट-अप्स को इंडस्ट्री एक्सपर्ट्स और एडवाइज़र्स के नेटवर्क का लाभ मिलेगा और वैश्विक पहुंच भी मिलेगी। स्टार्ट-अप्स को उनके परिचालनों में मदद देने के लिए प्रणालियां और प्रक्रियाओं का सहारा लिया जाएगा, उनकी टीमों के निर्माण से लेकर एक समर्पित वातावरण में उनके उत्पादों को परिपक्व बनाने में मदद की जाएगी। भारत में मोबिलिटी तथा एनर्जी मैनेजमेंट इकोसिस्टम तभी मजबूत बन सकता है, जबकि कॉर्पोरेट जगत स्टार्ट-अप्स को आगे बढ़ने और विस्तार करने के लिए थीम, नई तकनीक के चयन जैसे मोर्चों पर एकजुट होगा।

शेल एम 4 स्टार्टअप हब ऊर्जा क्षेत्र के विभिन्न स्टार्ट-अप्स को उनकी परिपक्वता के विभिन्न स्तरों पर सहयोग देने की पेशकश करता है। ये प्रोग्राम इस तरह से बनाए गए हैं कि एनर्जी स्टार्ट-अप्स, जिन्हें आमतौर पर लंबे समय तक पालना-पोसना होता है, की अनूठी प्रकृति के अनुरूप होते हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

मैं भाजपा में शामिल नहीं हो रहा हूं : पायलट

नई दिल्ली : राजस्थान के उप मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष पद से हटाए जाने के बाद सचिन पायलट ने बुधवार को कहा आगे पढ़ें »

बंगाल में कोरोना के 1390 आये नये मामले

कोलकाता : वेस्ट बंगाल कोविड-19 हेल्थ बुलेटिन के अनुसार पश्चिम बंगाल में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के 1390 नये मामले सामने आये आगे पढ़ें »

ऊपर