व्यापारिक तनाव कम करने के लिए मलेशिया भारत से खरीदेगा चीनी

नई दिल्ली : पिछले दिनों मलेशिया और भारत के बीच व्यापारिक रिश्ते में तनाव देखने को मिला, जिसके बाद भारत ने मलेशिया से पाम ऑयल के आयात पर रोक लगा दी थी। यह रोक मलेशिया के प्रधानमंत्री द्वारा कश्मीर मुद्दे और नागरिकता संशोधन कानून पर मलेशिया द्वारा टिप्पणी के बाद लगाई गई थी।

हालांकी अब मलेशिया ने भारत से चीनी खरीदने को कहा है। मलेशिया के शीर्ष चीनी रिफाइनर ने कहा कि वह भारत से कमोडिटी की खरीद में वृद्धि करेगा। यह जानकारी भारत और मलेशिया के बीच पाम ऑयल आयात पर चल रहे विवाद को सुलझाने के प्रयासों से जुड़े सूत्रों ने दी है। मलेशिया होल्डिंग्स बरहाद पहली तिमाही में भारत से 200 मिलियन रिंगिट ( 49.20 मिलियन) मूल्य की 130,000 टन कच्ची चीनी खरीदेगी ।

तेज रफ्तार पकड़ रही है अर्थव्यवस्था, निवेशक निवेश को तैयार : गोयल

कंपनी ने 2019 में भारत से लगभग 88,000 टन कच्ची चीनी खरीदी थी और चीनी रिफाइनिंग आर्म एमएसएम दुनिया की सबसे बड़ी पाम ऑयल तेल उत्पादक है, एफगीवी होल्डिंग्स जो मलेशियाई राज्य के स्वामित्व वाली संघीय भूमि विकास प्राधिकरण या ( फेल्डा) की एक इकाई है। माना यह भी जा रहा है कि भारत से चीनी खरीद बढ़ाने की प्रक्रिया का पाम ऑयल के मसले से कोई संबंध नहीं है। सरकार और कंपनी से जुड़े सूत्रों का कहना है कि यह भारत से व्यापारिक रिश्ते सुधारने के लिए किया जा रहा प्रयास है, क्योंकि भारत ने मलेशिया साफ़ कहा था कि वह मलेशिया से व्यापार कम कर देगा।

बजट : रियल एस्टेट क्षेत्र के विकास के लिए सीआईआई ने दिए ये सुझाव

भारत दुनिया का सबसे बड़ा खाद्य तेल खरीदार है, हाल ही में भारत ने पाम ऑयल का आयात बंद कर दिया था। भारत के इस फैसले के बाद मलेशिया ने कहा था कि वह अपने पाम ऑयल को दुनिया के किसी दूसरे देश को बेचेगा, लेकिन भारत मलेशिया से पाम ऑयल का सबसे बड़ा आयातक देश है। भारत ने पिछले पांच वर्षों में मलेशिया से 4.4 मिलियन टन पाम ऑयल आयात किया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

पेड़ पर चढ़कर फोन करने को मजबूर हैं आईसीसी अंपायर अनिल चौधरी

नयी दिल्ली : क्रिकेट के मैदान पर जिन लोगों ने उन्हें बेहद शांतचित होकर चौके, छक्के और आउट का इशारा करते हुए देखा होगा, उन्हें आगे पढ़ें »

लॉकडाउन के बीच देश में जरूरी वस्तुओं की सप्लाई चेन को चलाए रखना जरूरी -कैट

नई दिल्ली : कॉन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने आज कहा है की घातक कोरोना वायरस से लगातार बढ़ता खतरा और विभिन्न राज्यों में आगे पढ़ें »

ऊपर