वैश्विक ई- कॉमर्स कंपनियां देश में पीछे के दरवाजे से ना करें प्रवेश, बिजनस मॉडल रखें पारदर्शी : गोयल

नई दिल्ली : इन दिनों अमेजन प्रमुख जेफ़ बेजोस भारत दौरे पर हैं और उन्होंने घोषणा की है कि अमेजन भारत में सात हजार करोड़ रुपए निवेश करेगी। इस पर केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने कहा है कि अमेजन भारत में निवेश करके कोई एहसान नहीं कर रही है। गोयल ने सवाल उठाया कि ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म मुहैया कराने वाली कंपनी अगर दूसरों का बाजार बिगाड़ने वाली मूल्य नीति पर नहीं चल रही है, तो उसे इतना बड़ा घाटा कैसे हो सकता है? ये बातें वाणिज्य मंत्री ने वैश्विक संवाद सम्मेलन ‘रायसीना डायलॉग’ में कही।

आपको बता दें कि भारत में व्यवसाय करने वाली वैश्विक कंपनियां घाटे में चलने की बात करती रही हैं। गोयल ने कहा है कि ई-कॉमर्स कंपनियों को भारतीय नियमों का पालन करना होगा। गोयल ने यह भी कहा कि कंपनियों को कानून में छेद ढूंढकर भारतीय मल्टीब्रांड रिटेल सेक्टर में पीछे के दरवाजे से प्रवेश करने का प्रयास नहीं करना चाहिए।

एलटी फूड्स और जापानी कंपनी-केमेडा ने क्रंची नमकीन किए लॉन्च

अमेजन भारत में निवेश कर के नहीं कर रहा एहसान 

गौरतलब है कि भारत मल्टीब्रांड रिटेल सेक्टर में विदेशी कंपनियों को 49 फीसद से ज्यादा के इन्वेस्टमेंट की इजाजत नहीं देता, सरकार ने इस सेक्टर में अभी किसी भी विदेशी रिटेल कंपनी को बिजनेस करने की अनुमति नहीं दी है। गोयल ने कहा कि ई-कॉमर्स कंपनी अमेजन एक अरब डॉलर निवेश कर सकती है, लेकिन यदि उन्हें अरबों का घाटा हो रहा है, तो वे उस अरब डॉलर का इंतजाम भी कर रहे होंगे। इसीलिए ऐसा नहीं है कि अमेजन एक अरब डॉलर का निवेश कर भारत पर कोई एहसान कर रही है।

उद्योग संगठन द्वारा विरोध 

आपको बता दें कि देश की उद्योग संगठन इन वैश्विक कंपनियों के खिलाफ हैं और उनका कहना है इन ई कॉमर्स कंपनियों द्वारा दिए जा रहे छुट और डिस्काउंट के कारण देश का रिटेल और ऑफलाइन मार्केट प्रभवित हो रहा है। अमेजन ने लघु एवं मझोले उद्यमों को ऑनलाइन मदद देने के लिये एक अरब डॉलर के निवेश की घोषणा की है।

अमेजन पांच सालों में 7 हजार करोड़ रुपये करेगा निवेश, 10 लाख लोगों को मिलेगा रोजगार

वित्तपोषण पर पैसा लगा रही हैं कंपनियां 

वाणिज्य मंत्री ने कहा कि खरीदारों और विक्रेताओं को आईटी प्लेटफॉर्म मुहैया कराने वाली ई-कॉमर्स कंपनियां को आखिर बड़ा नुकसान कैसे हो सकता है? इस पर गौर किया जाना चाहिए। ये कंपनियां कुछ सालों से गोदामों और दूसरी एक्टिविटीज में पैसा लगा रही हैं, जो स्वागत योग्य है, लेकिन वे वित्त पोषण के लिये पैसा लगा रहे हैं और वह नुकसान ई-कॉमर्स मार्केट प्लेस मॉडल का दिखा रहे है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

सन्मार्ग के साथ पाइए स्वास्थ्य सुरक्षा का खास उपहार

कोलकाता : चाइनीज वायरस कोरोना द्वारा मचाई गई तबाही के बीच स्वास्थ्य सुरक्षा सबसे बड़ी जरूरत बनकर उभरी है। हर विपदा की तरह इस विपदा आगे पढ़ें »

बंगाल में 2725 हुए कोरोना संक्रमण से ठीक, 2936 आये नये संक्रमण के मामले

कोलकाता : वेस्ट बंगाल कोविड-19 हेल्थ बुलेटिन के अनुसार प​श्चिम बंगाल में कोरोना वायरस संक्रमण के 2936 नये मामले दर्ज किये गये है जबकि 2725 आगे पढ़ें »

ऊपर