विश्व में सबसे उदार एफडीआई नीति है भारत की : नीति आयोग

नयी दिल्ली : नीति आयोग के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अमिताभ कांत ने भारत की प्रत्यक्ष विदेश निवेश (एफडीआई) दुनिया में सबसे उदार नीति बताते हुए आज कहा कि इसकी वजह 65 अरब डॉलर का एफडीआई आया है और पिछले कुछ वर्षों में इसमें 16 गुना बढोतरी हुई है। श्रीकांत ने उद्योग संगठन एसोचैम द्वारा आयोजित एक वेबिनार में कहा कि देश में अधिकांश क्षेत्रों में ऑटोमेटिक रूट से एफडीआई की अनुमति दी गयी है। देश में 98 प्रतिशत एफडीआई ऑटोमेटिक रूट से ही आता है। सरकार ने हाल ही में रक्षा क्षेत्र में 74 फीसदी एफडीआई की अनुमति दी है जिससे इस क्षेत्र में प्रतिस्पर्धा बढ़ाने की गंभीरता प्रतीत होती है।

वैश्विक स्तर पर अन्य देशों में विदेशी निवेश में भारी गिरावट

उन्होंने कहा कि वैश्विक स्तर पर अन्य देशों में विदेशी निवेश में भारी गिरावट आयी है। वैश्विक स्तर पर इसमें 13 प्रतिशत की गिरावट आयी है। भारत की एफडीआई नीति अलग थलग पड़ने वाली नहीं है लेकिन यह सबसे उदार नीति है जो वैश्विक स्तर पर भारत को एफडीआई आकर्षित करने के लिए सबसे पसंदीदा बनाता है। कांत ने कहा कि देश में कोरोना वायरस संक्रमितो की संख्या में भले ही बढोतरी हो रही है लेकिन भारत ने इससे मृत्यु दर को नियंत्रित रखा गया है। कई देश ऐसी स्थिति में एक दूसरे से साथ आवाजाही को कम कर रहे हैं। जापान ने अपने परिचालन को दूसरे देशो में स्थानांतरित करने के लिए 2.2 अरब डॉलर का पैकेज दिया है जो भारत के लिए बहुत बड़ा अवसर है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बंगाल में तीसरे दिन भी कोरोना के 800 से ज्यादा मामले, 25 की हुई मौत

कोलकाता : वेस्ट बंगाल कोविड-19 हेल्थ बुलेटिन के अनुसार पश्चिम बंगाल में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के 850 नये मामले आये है आगे पढ़ें »

कोरोना की वजह से 9वीं-12वीं के पाठ्यक्रम 30 फीसदी घटे

नयी दिल्ली : कोविड-19 के बढ़ते मामलों के बीच स्कूलों के ना खुल पाने के कारण शिक्षा व्यवस्था पर असर और कक्षाओं के समय में आगे पढ़ें »

ऊपर