रेटिंग एजेंसी मूडीज ने 22 साल बाद भारत की सॉवरेन क्रेडिट रेटिंग को घटाया

प्रियंका तिवारी, नई दिल्ली

कोरोना महामारी और लॉकडाउन के कारण हुए भारी नुकसान को देखते हुए कई रेटिंग एजेंसियों ने मौजूदा वित्त वर्ष के लिए भारत के जीडीपी ग्रोथ के अनुमान को घटा दिया था। अब रेटिंग एजेंसी मूडीज इन्वेस्टर्स ने भारत की सॉवरेन क्रेडिट रेटिंग को घटा दिया है।

मूडीज का कहना है कि भारत को कमजोर आर्थिक वृद्धि दर, खराब वित्तीय स्थिति और वित्तीय क्षेत्र में दबाव जैसी कई चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा। एजेंसी का कहना है कि मौजूदा वित्त वर्ष में देश की जीडीपी में 4 फीसद तक की गिरावट आ सकती है, करीब 40 साल में पहली बार होगा, जब देश की वार्षिक जीडीपी में भारी गिरावट दर्ज की जाएगी। एजेंसी ने भारत की सॉवरेन क्रेडिट रेटिंग को घटा दिया है और भारत की स्थानीय मुद्रा वरिष्ठ बिना गारंटी वाली रेटिंग को भी बीएए2 से घटाकर बीएए3 कर दिया है। अल्पकालिक स्थानीय मुद्रा रेटिंग को भी पी-2से घटाकर पी-3 कर दिया गया है। एजेंसी का कहना है कि आने वाले समय में अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने को लेकर भारत के समक्ष कई चुनौतियां होंगी।

आपको बता दें कि मूडीज ने करीब 22 साल पहले 1998 में भारत की सॉवरेन क्रेडिट रेटिंग को घटाया और अब कोरोना महामारी के कारण 22 साल बाद एक बार फिर से सॉवरेन क्रेडिट रेटिंग को घटा दिया है। इससे पहले परमाणु परीक्षण किये जाने के बाद मूडीज ने रेटिंग को घटाया था, जबकि नवंबर 2017 में भारत की सॉवरेन क्रेडिट रेटिंग को एक पायदान बढ़ाकर बीएए2 किया था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

मजदूर की बदली किस्मत : 40 रुपये की लॉटरी से जीते 80 लाख

नई दिल्ली : कभी-कभी ऐसा होता है जब एक पर्ची से किसी गरीब मजदूर की किस्मत चमक जाती है। ऐसा ही एक मामला सामने आया आगे पढ़ें »

पति ने ही अपनी पत्नी पर लगाया सेक्स रैकेट चलाने का आरोप

पीलीभीत : उत्तर प्रदेश के पीलीभीत में सेक्स रैकेट से जुड़ा मामला सामने आया है। पीड़ित पति ने अपनी पत्नी की सबूत के साथ सेक्स आगे पढ़ें »

ऊपर