रिलायंस ने केडी-डी6 क्षेत्र की दो-तिहाई नयी गैस खुद ही खरीदी

नयी दिल्ली: रिलायंस इंडस्ट्रीज ने नये नियमों के तहत नीलामी के लिए पेश केजी-डी6 ब्लॉक की अपनी नयी गैस में से दो-तिहाई की खरीद खुद ही की है। रिलायंस इंडस्ट्रीज ने इसमें से करीब 67 प्रतिशत गैस खरीदी है। शेष गैस सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी गेल, रॉयल डच शेल और अन्य ने खरीदी है। रिलायंस और उसकी भागीदारी ब्रिटेन की बीपी पीएलसी ने शुक्रवार को केजी-डी6 ब्लॉक के आर-शृंखला क्षेत्र से 75 लाख मानक घनमीटर प्रतिदिन (7.5 लाख एमएमएससीएमडी) की बढ़ी गैस का नीलामी की। इसे देश में पहली बार गैस मार्कर से बेंचमार्क किया गया है। यह नीलामी सरकार द्वारा अधिसूचित उदारीकृत मूल्य खोज नियमों के तहत की गई। इन नियमों के तहत गैस उत्पादन से संबद्ध इकाइयां भी प्राकृतिक गैस की खरीद के लिए बोली लगा सकती हैं। रिलायंस इंडस्ट्रीज की इकाई रिलायंस ओ2सी ने शुक्रवार को नीलामी में 48 लाख घनमीटर गैस की खरीद की। सार्वजनिक क्षेत्र की गैस कंपनी गेल (इंडिया) लि.ने 8.5 लाख घनमीटर और शेल ने 7 लाख घनमीटर गैस की खरीद की। वहीं, अडाणी टोटल गैस ने एक लाख घनमीटर, हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉरपोरेशन ने दो लाख घनमीटर और टॉरेस्ट गैस ने 20,000 घनमीटर गैस की खरीद की। अन्य खरीदारों में आईआरएम एनर्जी, पीआईएल और आईजीएस शामिल है। रिलायंस ओ2सी नयी इकाई है, जिसके तहत कंपनी की रिफाइनरी और पेट्रोरसायन परिसंपत्तियां आती हैं। ई-बोली की प्रक्रिया वेब-आधारित इलेक्ट्रॉनिक बोली मंच के जरिये क्रिसिल रिस्क एंड इन्फ्रास्ट्रक्चर साल्यूशंकस लि.(क्रिस) ने की। यह एक स्वतंत्र एजेंसी है, जो हाइड्रोकॉर्बन महानिदेशालय (डीजीएच) के पैनल में है। क्रिस ने ई-प्रोक्यूरमेंट टेक्नोलॉजीज लि। (ईपीटीएल) के साथ भागीदारी में ई-बोली मंच तैयार किया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

इन 7 वजहों से करनी चाहिए गणपति की पूजा

कोलकाता : बुधवार को पूरे विधि विधान के साथ भगवान गणेश की पूजा की जाती है l भगवान गणेश भक्तों पर प्रसन्न होकर उनके दुखों आगे पढ़ें »

कोविड के एक्टिव मामले लाखों में, चिंता बढ़ी

डिस्चार्ज रेट में भी गिरावट सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः राज्य में कोरोना वायरस के एक्टिव मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग की चिंता बढ़ती आगे पढ़ें »

ऊपर