रिलायंस अपने रिफाइनरी-पेट्रोकेमिकल्स बिजनेस का 25% शेयर सऊदी अरामको को बेच सकता है

मुंबई : यह उल्लेखनिय है कि मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस देश की सबसे ज्यादा मुनाफा कमाने वाली कंपनी है। आपको बता दें कि रिलायंस अपने रिफाइनिंग और पेट्रोकेमिकल कारोबार का 25 फीसदी हिस्सा सऊदी की सरकारी तेल कंपनी अरामको को बेचने की योजना बना रही है। इसके लिए दोनों पक्षों के बीच गंभीरता से विचार किया जा रहा है। हालांकि रिलायंस इस पर टिप्पणी करने से बच रही है। एक न्यूज एजेंसी से मिली जानकारी के मुताबिक 15 अरब डॉलर (1 लाख 4 हजार करोड़ रुपये) में हो सकता है सौदा।

फलीह और अंबानी के बीच हो चुकी है मुलाकात

अरामको कई बार रिलायंस में अपनी दिलचस्पि दिखा चुकी है और सौदे को लेकर कई बार बातचीत भी कर चुकी है। हालांहि में सऊदी अरब के तेल मंत्री खालिद अल फलीह ने दिसंबर 2018 में रिलायंस के चेयरमैन मुकेश अंबानी से मुलाकात की थी। इतना ही नहीं फलीह अंबानी की बेटी ईशा के प्री-वेडिंग फंक्शन में भी शामिल हुए थे। उस वक्त मुकेश अंबानी से मुलाकात के बाद फलीह ने ट्वीट कर कहा था कि पेट्रोकेमिकल, रिफाइनिंग और कम्युनिकेशंस से जुड़ी परियोजनाओं में संयुक्त निवेश और सहयोग पर चर्चा हुई। इस साल जनवरी में अरामको के सीईओ ने भी मुकेश अंबानी से मुलाकात की थी।

25 फीसदी हिस्सा बेचने का क्या है कारण
इस समझौते के प्रकाश में आने से एक सवाल उठता है कि आखिर ऐसी क्या बात हो गई की रिलायंस रिफाइनरी-पेट्रोकेमिकल कारोबार का 25 फीसदी हिस्सा बेचना पड़ रहा है। दरअसल बात यह है कि रिलायंस अब उर्जा से लेकर टेलीकॉम और रिटेल कारोबार में सक्रिय अपने कारोबार का बड़े स्तर पर वर्गीकरण करना चाहती है। साथ अपने कुछ कारोबारों का आकार भी छोटा करना चाहती है जिससे उसकी हिस्सेदारी बेचने से मिले पैसे से विस्तार किया जा सके। बता दें कि इस वक्त अपनी रिफाइनरी और पेट्रोकेमिकल बिजनेस का एक हिस्सा बेचने की अच्छी कीमत मिल की उम्मीद है।

सऊदी भारत को कच्चे तेल की आपूर्ति के लिए हब बनाना चाहती है

दरअसल सऊदी अरब कच्चे तेल की सप्लाई के लिए भारत को रीजनल हब बनाने के उद्देश्य से यह सौदा करना चाहती है। वह यहां रिफाइनरी और भंडारण क्षमता बढ़ाने में निवेश करना चाहती है।यही वजह है अरामको रिलायंस के रिफाइनिंग और पेट्रोकेमिकल बिजनेस का एक हिस्सा खरीदने की तैयारी कर रहा है।

अरामको-एडनॉक ने मिलकर महाराष्ट्र में लगाया था प्रोजेक्ट, किसानों ने नहीं दी जमीन

पिछले साल अरामको ने यूएई की कंपनी एडनॉक के साथ मिल कर महाराष्ट्र के रत्नागिरी में 50 फीसदी हिस्सा खरीदने का सौदा किया था और प्रति दिन 12 लाख बैरल की क्षमता वाला रिफाइनिंग और पेट्रोकेमिकल प्रोजेक्ट लगाने का भी ऐलान किया था। हालांकि प्रोजेक्ट के लिए किसानों ने जमीन देने से इनकार कर दिया था। अब इस परियोजना को कहीं और लगाने की तैयारी चल रही है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

kejri

दिल्ली : यमुना के बढ़ते जलस्तर को देख केजरीवाल ने बुलाई आपात बैठक

नई दिल्ली : ‌दिल्ली में बाढ़ जैसे हालात बनने की स्थिति को देखते हुए अलर्ट जारी किया गया है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इस स्थिति आगे पढ़ें »

singh

केंद्रीय मंत्री ‌जितेंद्र सिंह का बड़ा बयान, कहा पीओके को आजाद कराकर भारत में करेंगे शामिल

नई दिल्ली: केंद्र सरकार द्वारा जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 समाप्त करने के बाद नेताओं के बयानों का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। आगे पढ़ें »

ऊपर