रिकॉर्ड स्तर को छूने के बाद लुढ़के शेयर बाजार

मुंबईः मोदी सरकार के नये मंत्रिमंडल की घोषणा से निवेशक हतोत्साहित दिखे जिससे शुरुआती पहर में रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचने वाले घरेलू शेयर बाजार चौतरफा बिकवाली के दबाव में लाल निशान में बंद हुए। यस बैंक, आईटीसी और महिंद्रा एंड महिंद्रा जैसी कंपनियों में हुई बिकवाली के दबाव में बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 117.77 अंक की गिरावट के साथ 39,714.20 अंक पर बंद हुआ। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 23.10 अंक लुढ़ककर 11,922.80 अंक पर बंद हुआ। सेंसेक्स की 30 में से 19 कंपनियां लाल निशान में और 11 हरे निशान में रहीं। निफ्टी की 50 में से 21 कंपनियां बढ़त में और 29 गिरावट में रहीं। बीएसई में कुल 2,737 कंपनियों के शेयरों में कारोबार हुआ जिनमें 1,024 में तेजी और 1,559 में गिरावट रही जबकि 154 कंपनियों के शेयरों के दाम में कोई बदलाव नहीं हुआ।
क्या रहा कारण
बाजार विश्लेषकों के मुताबिक अमेरिका और चीन के तनाव के गहराने के कारण पहले से ही वैश्विक बाजार में उथलपुथल का माहौल बना हुआ था। ऐसे समय में मेक्सिको के सभी उत्पादों पर पांच फीसदी का नया टैरिफ लगाने की अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की धमकी ने वैश्विक टैरिफ युद्ध की आशंकाओं को बल दे दिया जिससे दुनिया भर के शेयर बाजार में गिरावट हावी रही। घरेलू शेयर बाजार भी इस वैश्विक हलचल से अछूते नहीं रहे। इसके अलावा निर्मला सीतारमण को देश का नया वित्त मंत्री बनाये जाने को भी निवेशकों ने सकारात्मक रुप से नहीं लिया। दिग्गज कंपनियों की तरह छोटी कंपनियों में भी बिकवाली हावी रही जबकि मंझोली कंपनियों में लिवाली का जोर रहा। बीएसई का मिडकैप 0.23 प्रतिशत यानी 34.83 अंक की तेजी में 15,096.18 अंक पर और स्मॉलकैप 0.65 प्रतिशत यानी 97.11 अंक की गिरावट में 14,867.04 अंक पर बंद हुआ।
सेंसेक्स की चाल
सेंसेक्स बढ़त के साथ 39,998.91 अंक पर खुला और पहले ही घंटे में उत्साहित निवेशकों की लिवाली के दम पर 40,122.34 अंक के दिवस के उच्चतम स्तर पर पहुंच गया। इसके बाद बाजार में पूरे दिन बिकवाली हावी रही, जिससे यह 39,374.24 अंक के दिवस के निचले स्तर तक भी गया। निफ्टी भी तेजी के साथ 11,999.80 अंक पर खुला। कारोबार के दौरान यह 12,039.25 अंक के दिवस के उच्चतम और 11,829.45 अंक के दिवस के निचले स्तर के दायरे में रहा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

ग्लोबल आर्थिक रिकवरी की उम्मीदों के बीच सोने की कीमतों में गिरावट

नई दिल्ली : दुनियाभर की सरकारों की मुख्य चिंता इस बात पर बनी हुई है कि लॉकडाउन को कैसे हटाया जाए और साथ ही अपने आगे पढ़ें »

ममता सरकार अपने खजाने से प्रवासियों को आर्थिक सहायता क्यों नहीं देती : विजयवर्गीय

इंदौर/कोलकाता : भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने बुधवार को आरोप लगाया कि कोविड-19 से उत्पन्न संकट के दौरान पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी तृणमूल आगे पढ़ें »

ऊपर