मोबाइल ब्रॉडबैंड सेवाएं हो सकती हैं महंगी, जानिए क्या है वजह

नई दिल्ली : एक रिपोर्ट के मुताबिक चालू वित्त वर्ष (2019-20) की दूसरी छमाही में दूरसंचार सेवाओं की कीमतों में बढ़ोतरी होने की उम्मीद है. दरों में वृद्धि का कारण यह है कि मोबाइल ब्रॉडबैंड सेवाओं की पैठ काफी महत्वपूर्ण स्तर तक बढ़ चुकी है और सेचुरेशन प्वाइंट तक पहुंचने वाली है.

‘टेलीकॉम डेलाइट अगेन’ शीर्षक वाली इस रिपोर्ट में बताया गया है कि दूरसंचार सेवा प्रदाताओं द्वारा वित्त वर्ष 2019-20 की दूसरी छमाही में वृद्धि की जाएगी. मोबाइल ब्रॉडबैंड की पैठ 65 फीसदी तक हो चुकी है और आमतौर पर सेवाओं की कम पैठ होने के कारण सेवा प्रदाता बाजार हिस्सेदारी बढ़ाने के लिए कीमतों को कम रखते हैं, इससे बाजार में कीमतों में प्रतिस्पर्धा बढ़ती है और छोटी कंपनियों का बड़ी कंपनियों में विलय होने लगता है.

एडलवीस की इस रिपोर्ट में रिलायंस जियो को लेकर कहा गया है कि लॉन्च के 10 तिमाहियों के बाद और राजस्व में बाजार की 30 फीसदी हिस्सेदारी हासिल करने के बाद कंपनी 40 करोड़ ग्राहकों के लक्ष्य को प्राप्त करने के बाद कीमतें बढ़ाएगी. आपको बता दें कि जियो के लॉन्चिंग के मौके पर कंपनी ने कहा था कि 40 करोड़ ग्राहक हासिल करना उनके प्रमुख लक्ष्यों में से एक है.

शेयर करें

मुख्य समाचार

मुझे अपनी जर्नी बेहद बेहतरीन लगती है : विद्युत जामवाल

कोलकाता : विद्युत् जामवाल ने बतौर अभिनेता/ मार्शल आर्टिस्ट एवं स्टंट परफॉर्मर फिल्मों में और खासकर फिल्म "फाेर्स" से विलन के किरदार में अपने अभिनय आगे पढ़ें »

प्रदीप कुमार जोशी बनें यूपीएससी के अध्यक्ष

नयी दिल्ली : शिक्षाविद् प्रोफेसर प्रदीप कुमार जोशी को शुक्रवार को संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) का अध्यक्ष नियुक्त किया गया। यूपीएससी भारत के नौकरशाहों आगे पढ़ें »

ऊपर