महंगाई दर में राहत, सितंबर में रही 0.33 फीसदी

नई दिल्ली : थोक मूल्य सूचकांक आधारित महंगाई दर में सितंबर में राहत मिली है। यह अगस्त में 1.08 फीसद थी जो सितंबर में घटकर 0.33 फीसद पर आ गई। गैर-खाद्य पदार्थों की कीमतों में आई कमी से डब्ल्यूपीआई इन्फ्लेशन में कमी आई है। सरकारी आंकड़ों की माने तो मासिक थोक मूल्य सूचकांक आधारित सालाना महंगाई दर सितंबर 2018 में 5.22 फीसद थी।

सितंबर में खाद्य पदार्थों की कीमतों में बढ़ोत्तखरी की दर 7.47 फीसद रही और दूसरी तरफ, गैर-खाद्य पदार्थों की कीमतों की वृद्धि दर 2.18 फीसद रही। मैन्यु्फैक्च रिंग प्रोडक्ट्स की श्रेणी की थोक महंगाई दर 0.1 फीसद रही। डब्ल्यूपीआई में इसकी हिस्से दारी 64.23 फीसद रही, जबकि ईंधन और पावर क्षेत्र में महंगाई दर -0.5 फीसद रही। फल, सब्जियां, गेहूं, मीट और दूध की थोक महंगाई दर सितंबर में 0.6 फीसद रही। थोक मूल्य् सूचकांक में पा्रइमरी आर्टिकल्स् की हिस्से दारी 22.62 फीसद है।

डब्ल्यूपीआई फूड इंडेक्स(प्राइमरी आर्टिकल्स ग्रुप और मैन्युफैक्चर्ड प्रोडक्ट्स कैटेगरी के खाद्य उत्पाद) में सितंबर के दौरान 5.98 फीसद की बढ़ोत्तरी दर्ज की गई जो अगस्त में 5.75 फीसद थी। भारतीय रिजर्व बैंक मौद्रिक नीति तैयार करने के लिए मूल रूप से उपभोक्ता महंगाई दर को प्राथमिक रूप से ट्रैक करता है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

यह प्लान आपको दिलाएगी क्रेडिट- डेबिट कार्ड कैरी करने से मुक्ति

नई दिल्ली : डिजिटल ट्रांजैक्शन के दौर में अधिकांश लोगों के पास एक से ज्यादा डेबिट, क्रेडिट कार्ड हैं। वर्ष 2016 में नोटबंदी के बाद आगे पढ़ें »

सरकारी कंपनियों का रणनीतिक विनिवेश होगा शुरू, पहले चरण में पांच कंपनियों की बिकेगी हिस्सेदारी

नई दिल्ली : केंद्र सरकार ने सरकारी कंपनियों का रणनीतिक विनिवेश शुरू करने का फैसला किया है और विनिवेश के पहले चरण में पांच कंपनियों आगे पढ़ें »

ऊपर