मलबे से बनेंगे सांसदों के नए फ्लैट

नई दिल्ली : देश की राजधानी दिल्ली को संवारने का काम इन दिनों जोरों पर है। दिल्ली में पुराने मकानों को तोड़कर मल्टीस्टोरी फ्लैट बनाए जा रहे हैं। दिल्ली में सांसदों के पुराने आवास को भी तोड़कर नए फ्लैट बनाए जाने की योजना है, लेकिन इस योजना में पुराने बंगलों का ही मलबा इस्तेमाल किया जाएगा।

बनेंगे 400 नए फ्लैट्स

केंद्र सरकार ने लुटियन दिल्ली में सांसदों के लिए बने 400 पुराने फ्लैटों को तोड़कर, मलबे से नए फ्लैट बनाने का निर्णय लिया है। केंद्रीय लोक निर्माण विभाग (सीपीडब्ल्यूडी) ने बताया कि ये फ्लैट राष्ट्रपति भवन के दोनों और नॉर्थ एवेन्यू और साउथ एवेन्य में स्थित हैं। इनका निर्माण करीब 60 साल पहले हुआ था। इन्हें तोड़कर नए फ्लैट बनाए जाएंगे। सीपीडब्ल्यूडी के महानिदेशक प्रभाकर सिंह ने बताया कि नॉर्थ एवं साउथ एवेन्यू में आजादी के बाद निर्मित सांसदों के पुराने फ्लैटों को तोड़ा जाएगा और सांसदों के लिए नए फ्लैट बनाने के लिए मलबे का इस्तेमाल किया जाएगा। इन स्थलों के मलबे का इस्तेमाल नए फ्लैट बनाने के लिए किया जा सकता है। यहां कम ऊंची इमारतों में सौर ऊर्जा पैनल होंगे और कार पार्किंग का विशेष स्थान होगा। इसके अलावा अन्य सुविधाएं भी होंगी।

सीपीडब्ल्यूडी ने हाल में 80 करोड़ रुपये की लागत से 36 डुप्लेक्स फ्लैट्स बनाए हैं जो नव निर्वाचित सांसदों को आवंटित किए जाएंगे। लुटियन दिल्ली में करीब 350 सांसदों के रहने के लिए अस्थायी व्यवस्था की गई है, जब तक नए फ्लैट नहीं बन जाते।

शेयर करें

मुख्य समाचार

भारत-अमेरिका साझेदारी इन पांच स्तंभों पर आधा​रित

वाशिंगटन : अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन की देश की बागडोर संभालने की तैयारी के बीच भारतीय राजदूत ने कहा कि आने वाले दिनों आगे पढ़ें »

कोविड-19: टीके की 1.6 अरब खुराक खरीदने वाला सबसे बड़ा खरीदार होगा भारत

नयी दिल्ली: वैश्विक विशेषज्ञों के विश्लेषण के मुताबिक भारत 1.6 अरब खुराक के साथ दुनिया में कोविड-19 टीके का सबसे बड़ा खरीदार होगा। इतने टीके आगे पढ़ें »

ऊपर