मलबे से बनेंगे सांसदों के नए फ्लैट

नई दिल्ली : देश की राजधानी दिल्ली को संवारने का काम इन दिनों जोरों पर है। दिल्ली में पुराने मकानों को तोड़कर मल्टीस्टोरी फ्लैट बनाए जा रहे हैं। दिल्ली में सांसदों के पुराने आवास को भी तोड़कर नए फ्लैट बनाए जाने की योजना है, लेकिन इस योजना में पुराने बंगलों का ही मलबा इस्तेमाल किया जाएगा।

बनेंगे 400 नए फ्लैट्स

केंद्र सरकार ने लुटियन दिल्ली में सांसदों के लिए बने 400 पुराने फ्लैटों को तोड़कर, मलबे से नए फ्लैट बनाने का निर्णय लिया है। केंद्रीय लोक निर्माण विभाग (सीपीडब्ल्यूडी) ने बताया कि ये फ्लैट राष्ट्रपति भवन के दोनों और नॉर्थ एवेन्यू और साउथ एवेन्य में स्थित हैं। इनका निर्माण करीब 60 साल पहले हुआ था। इन्हें तोड़कर नए फ्लैट बनाए जाएंगे। सीपीडब्ल्यूडी के महानिदेशक प्रभाकर सिंह ने बताया कि नॉर्थ एवं साउथ एवेन्यू में आजादी के बाद निर्मित सांसदों के पुराने फ्लैटों को तोड़ा जाएगा और सांसदों के लिए नए फ्लैट बनाने के लिए मलबे का इस्तेमाल किया जाएगा। इन स्थलों के मलबे का इस्तेमाल नए फ्लैट बनाने के लिए किया जा सकता है। यहां कम ऊंची इमारतों में सौर ऊर्जा पैनल होंगे और कार पार्किंग का विशेष स्थान होगा। इसके अलावा अन्य सुविधाएं भी होंगी।

सीपीडब्ल्यूडी ने हाल में 80 करोड़ रुपये की लागत से 36 डुप्लेक्स फ्लैट्स बनाए हैं जो नव निर्वाचित सांसदों को आवंटित किए जाएंगे। लुटियन दिल्ली में करीब 350 सांसदों के रहने के लिए अस्थायी व्यवस्था की गई है, जब तक नए फ्लैट नहीं बन जाते।

शेयर करें

मुख्य समाचार

amit shah

डिजिटल टेक्नोलॉजी से होगी 2021 की जनगणना, मोबाइल एप का होगा इस्तेमाल : अमित शाह

नई दिल्ली : केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने सोमवार को सभी नागरिकों के लिए एक बहुउद्देश्यीय पहचान पत्र का विचार रखा जिसमें आधार, पासपोर्ट, ड्राइविंग आगे पढ़ें »

अगस्त में गोएयर से 13.91 लाख से अधिक यात्रियों ने यात्रा किया

नई दिल्ली : नागरिक उड्डयन महानिदेशालय द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार भारत का सबसे तीव्र गति से प्रगतिशील एयरलाइन – गोएयर अगस्त 2019 में समय आगे पढ़ें »

ऊपर