भारत से व्यापर संबंध तोड़ने के बाद पाक में जीवनरक्षक दवाओं की किल्लत

नई दिल्ली : भारत के साथ व्यापार संबंध तोड़ने के फैसले के बाद यहां कई समानों की किल्लत होने लगी है। एक रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तान में जीवनरक्षक दवाओं और अन्य जरूरी चीजों की कमी होने लगी है। पाक के अखबार डॉन के अनुसार, उद्योग संगठन एम्पलायर्स फेडरेशन ऑफ पाकिस्तान (ईएफपी) ने कहा की है कि भारत से कच्चा माल या तैयार उत्पाद के रूप में आयातित जीवनरक्षक दवाएं बाजार से जल्द समाप्त हो सकती हैं। ऐसे में वैकल्पिक स्रोत की व्यवस्था नहीं होने तक आयात में ढील दी जाए।

आपको बता दें कि जम्मू कश्मीर का विशेष राज्य का दर्जा समाप्त किए जाने के बाद पाकिस्तान ने भारत के साथ व्यापार संबंध तोड़ लिया है। ईएफपी ने एयरपोर्ट या बंदरगाहों पर पहुंच चुके भारतीय वस्तुओं को बाजार में बिकने की छूट देने की भी अपील की। उसने कहा कि जो उत्पाद पहले ही एयरपोर्ट और बंदरगाहों पर पहुंच चुके हैं, उन्हें स्थानीय बाजारों में बिकने दिया जाना चाहिए।

ईएफपी के उपाध्यक्ष जाकी अहमद खान ने कहा है कि जीवनरक्षक दवाएं बनाने के लिए पाकिस्तान की दवा कंपनियों ने भारत से जिन सक्रिय औषधीय अवयवों का आयात किया है, उनका इस्तेमाल करने की छूट दी जानी चाहिए।

शेयर करें

मुख्य समाचार

2022 में होगा विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप

पेरिस : टोक्यो ओलंपिक के एक साल तक टलने से 2021 में प्रस्तावित ओरेगन विश्व चैंपियनशिप का आयोजन अब 2022 में 15 से 24 जुलाई आगे पढ़ें »

इटली के ओलंपिक फाइनलिस्ट दोनातो की कोरोना से मौत

नई दिल्ली : दुनियाभर को अपनी चपेट में ले चुके कोरोना (कोविड-19) के कारण दो हफ्ते में खेल जगत के 6 बड़े खिलाड़ी अपनी जान आगे पढ़ें »

दुबई में विश्व की पहली ‘होम मैराथन’, भाग लेंगे 62 देशों के 749 धावक

सेंसेक्स 31,159 की बढ़त के साथ और निफ्टी 363 अंकों की बढ़त के साथ 9,111 पर बंद हुआ

कोरोना की रोकथाम के लिए सरकार ने 15000 करोड़ रुपये के इमरजेंसी पैकेज का ऐलान किया

आईपीएल के लिये किसी आस्ट्रेलियाई खिलाड़ी ने कोहली से नरमी नहीं बरती : टिम पेन

कर्फ्य के दौरान कार से निकलने पर क्रिकेटर ऋषि धवन का चालान काटा

विश्व कप विजेता हाकी खिलाड़ी अशोक दीवान अमेरिका में फंसे, सरकार से लगायी गुहार

शोएब को कपिल ने सिखायी इंसानियत कहा-भारत को धन की नहीं जरूरत, जोखिम में नहीं डालेंगे खिलाड़ियों को

rbi

मौजूदा वित्त वर्ष के शुरूआती 9 महीनों में ही 50 फीसद कर्ज ले सकेंगे राज्य : आरबीआई

ऊपर