भारत में उद्योगों और रोजगार सृजन में अवसरों की अधिकता

लंदनः भारत अपने आर्थिक विकास के चलते दुनिया का सबसे शक्तिशाली देश बनने की राह पर निकल पड़ा है। इस कारण आने वाले समय में भारत दूसरी बड़ी अर्थव्यवस्‍था बन सकता है।
हार्वर्ड विश्वविद्यालय की हाल ही में प्रकाशित एक रिर्पोट के अनुसार ‘‘आर्थिक जटिलता वृद्धि अनुमानों से भारत आने वाले दशक के लिए सबसे तेजी से बढ़ते देश के रूप में 7.9 प्रतिशत की दर से वार्षिक सूची में ऊपर बढ़ रहा है। रिपोर्ट बताती है कि भारत में कई उद्योगों, विकास और रोजगार सृजन में प्रयुक्त अवसरों की अधिकता है। भारत की निरंतर आर्थिक वृद्धि और वैज्ञानिक सोच के साथ, यह दुनिया का सबसे शक्तिशाली देश बनने की राह पर है। उन 12 कारणों पर एक दृष्टि कि क्यों भारत 2025 तक विश्व पर शासन करने के लिए तैयार है।
इन क्षेत्रों में गतिविधि बढ़ी
विज्ञान और तकनीक- भारत विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में अपनी उल्लेखनीय प्रगति कर रहा है। जैसे-जैसे डिजिटलीकरण बढ़ता जा रहा है, भारत ब्लॉक चेन, 3 डी पेंटिग, मशीन लर्निंग और रोबोटिक्स में अधिक प्रगति करेगा। भारत आर्टिफिशियल इंटिलिजेंस (कृत्रिम प्रतिभा) क्षेत्र में विशाल बनने के लिए प्रयासरत है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

चाइना ओपन : क्वार्टरफाइनल में बी साईं प्रणीत की हार के साथ भारतीय चुनौती खत्म

चांगझू : विश्व के 15वें नंबर के पुरूष खिलाड़ी बी साई प्रणीत कड़े संघर्ष के बावजूद चाइना ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट में शुक्रवार को अपने क्वार्टरफाइनल आगे पढ़ें »

मरे चैलेंजर टेनिस टूर्नामेंट के क्वार्टर फाइनल में पहुंचे रामनाथन

नयी दिल्ली : भारत के रामकुमार रामनाथन ने जबरदस्त प्रदर्शन की बदौलत ग्लास्गो में चल रहे 46,600 यूरो की ईनामी राशि वाले मरे ट्रॉफी चैलेंजर आगे पढ़ें »

ऊपर