भारत करेगा हंबनटोटा हवाईअड्डा का परिचालन

कोलंबोः रणनीतिक दृष्टिकोण से श्रीलंका के महत्वपूर्ण बंदरगाह शहर हंबनटोटा के हवाईअड्डा का परिचालन भारत करेगा। गत गुरुवार को श्रीलंका के नागर विमानन मंत्री निमल श्रीपाल डी सिल्वा ने संसद में कहा कि घाटे में चल रहे मत्ताला राजपक्षे अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्ड को भारत दोनों देशों के संयुक्त उपक्रम के रुप में चलाएगा, जिसमें भारत बड़ा भागीदार होगा। उन्होंने कहा कि अनुबंध की अंतिम शर्तें अभी तय की जानी हैं। सरकार ने इसके परिचालन के लिए 2016 में निविदा मंगवायी थी। इसमें मदद की पेशकश सिर्फ भारत ने की। डी सिल्वा ने कहा, ‘ इस हवाईअड्डा को सही करना होगा जिसके कारण 20 अरब रुपये का नुकसान हुआ है। ’

चीन के कर्ज से है बना

पूर्व राष्ट्रपति महिंदा राजपक्षे के नाम पर उनके कार्यकाल के दौरान इसे चीन के भारी – भरकम ब्याज वाले कर्ज से बनाया गया था। मार्च 2013 में इसका परिचालन शुरू हुआ लेकिन, लगातार घाटे तथा सुरक्षा कारणों से यहां की एकमात्र अंतरराष्ट्रीय उड़ान भी इस साल मई में बंद कर दी गयी। हवाईअड्डा के पास में ही स्थित बंदरगाह का नियंत्रण चीन के पास है। यह अधिकार उसका कर्ज चुकाने के क्रम में दिया गया है। यह हवाई अड्डा कोलंबो से 241 किलोमीटर दक्षिण – पूर्व में है। 21 करोड़ डॉलर की लागत से इसे बनाया गया है लेकिन वहां से उड़ान न होने के कारण इसे विश्व का सबसे खाली हवाईअड्डा कहा जाता है।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

कृषि की स्थायी वृद्धि के लिए जल प्रबंधन जरूरी

नई दिल्ली : बढ़ती जनसंख्या, अपर्याप्त सरकारी योजना, बढ़ते काॅर्पोरेटाइजेशन, औद्योगिक और मानवीय अपशिष्ट, आदि के कारण भारत इतिहास का सबसे बड़ा जल संकट झेल रहा है। नेशनल जियोफिजिकल रिसर्च इंस्टिट्यूट के एक हालिया अध्ययन के मुताबिक विश्व भर में [Read more...]

मारुती सुजुकी ने घटाई उत्पादन, जानिए क्या है वजह…

नई दिल्ली : देश की बड़ी कार विनिर्माता कंपनी मारुति सुजुकी इंडिया (एमएसआई) ने मांग में कमी आने के कारण पिछले महीने फरवरी में अपना उत्पादन आठ प्रतिशत घटाया है. कंपनी ने शेयर बाजार में सुचना भेजी है, जिसमें कहा [Read more...]

मुख्य समाचार

2000 कारों को लेकर जा रहा जहाज समुद्र में डूबा

पेरिसः 2000 कारों के साथ ब्राजील जा रही इटली का एक जहाज अटलांटिक महासागर में डूब गया। 37 पोर्शे कारें भी शामिल थीं। जहाज में सवार 27 क्रू मेंबर्स को ब्रिटिश मिलिट्री ने अभियान चलाकर बचा लिया है। ग्रांडे [Read more...]

कृषि की स्थायी वृद्धि के लिए जल प्रबंधन जरूरी

नई दिल्ली : बढ़ती जनसंख्या, अपर्याप्त सरकारी योजना, बढ़ते काॅर्पोरेटाइजेशन, औद्योगिक और मानवीय अपशिष्ट, आदि के कारण भारत इतिहास का सबसे बड़ा जल संकट झेल रहा है। नेशनल जियोफिजिकल रिसर्च इंस्टिट्यूट के एक हालिया अध्ययन के मुताबिक विश्व भर में [Read more...]

ऊपर