बजट सेगमेंट में सैमसंग 4 जून को लॉन्च करेगी यह फोन, जानिए कीमत और खासियत

नई दिल्ली : दक्षिण कोरिया की स्मार्टफोन निर्माता कंपनी सैमसंग गैलेक्सी ए सीरीज का नया स्मार्टफोन गैलेक्सी ए 31 को अगले महीने 4 जून को भारत में लॉन्च करने वाली है। यह बजट फोन है, जिसे हाल ही में ग्लोबल मार्केट में लॉन्च किया गया है। सैमसंग ने इस साल भारत में गैलेक्सी ए 51 और ए 71 लॉन्च किया है। इस सीरिज के कई और फोन ग्लोबल मार्केट में लॉन्च किया जा चुका है, लेकिन अभी ये फोन कोरोना के कारण भारत में लॉन्च नहीं हो पाए हैं। हालांकि लॉकडाउन में मिले कुछ रियायतों के बीच अब कंपनियां अपने प्रोडक्ट्स लॉन्च करने लगी हैं।

गैलेक्सी ए 31 क्वाड रियर कैमरा सेट-अप के साथ भारत में लॉन्च किया जा सकता है। वहीं भारत में यह 6.4 इंच के सुपर एमोलेड डिस्प्ले पैनल के साथ आ सकता है। फोन के फ्रंट पैनल में वाटर-ड्रॉप या डॉट नॉच फीचर वाला डिस्प्ले हो सकता है, वहीं सिक्युरिटी के लिए इन-डिस्प्ले फिंगरप्रिंट सेंसर दी जा सकती है। यह मीडिया टेक हेलिओ पी 65 ऑक्टाकोर मिड रेंज के प्रोसेसर के साथ पेश किया जा सकता है। फोन 6 जीबी रैम + 128 जीबी स्टोरेज ऑप्शन के साथ आ सकता है।

एंड्रॉइड  10 पर आधारित यह फोन वन यूआई 2.0 ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ पेश किया जा सकता है, वहीं इस फोन को पावर देने के लिए इसमें दमदार 5,000 एमएएच की बैटरी दी जा सकती है। फोन में 15 डब्ल्यू की फास्ट चार्जिंग सपोर्ट और यूएसबी टाइप सी दी जा सकती है, जबकि कनेक्टिविटी के लिए इसमें 4जी वोल्ट, ड्यूल सिम कार्ड सपोर्ट, वाईफाई कॉलिंग, ब्लूटूथ 5.0, एनएफसी जैसे फीचर्स दिए जा सकते है।

वहीँ कैमरे में बैक में क्वाड रियर कैमरा सेट-अप हो सकता है और इसमें 48मेगापिक्सल का प्राइमरी सेंसर, एफ /2.0 अपर्चर के साथ दिया जा सकता है। सेल्फी के लिए इसमें 20 मेगापिक्सल कैमरा हो सकता है। यह फोन भारत में 15,000 रुपये से 20,000 रुपये तक की कीमत में लॉन्च किया जा सकता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बंगाल में तीसरे दिन भी कोरोना के 800 से ज्यादा मामले, 25 की हुई मौत

कोलकाता : वेस्ट बंगाल कोविड-19 हेल्थ बुलेटिन के अनुसार पश्चिम बंगाल में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के 850 नये मामले आये है आगे पढ़ें »

कोरोना की वजह से 9वीं-12वीं के पाठ्यक्रम 30 फीसदी घटे

नयी दिल्ली : कोविड-19 के बढ़ते मामलों के बीच स्कूलों के ना खुल पाने के कारण शिक्षा व्यवस्था पर असर और कक्षाओं के समय में आगे पढ़ें »

ऊपर