बजट : पूर्व वित्त सचिव एस सी गर्ग ने इनकम टैक्स को लेकर सरकार को दिए ये सुझाव

नई दिल्ली : बजट पूर्व अपने सुझाव में पूर्व वित्त सचिव एस सी गर्ग ने कहा है कि इनकम टैक्स को सरल बनाया जाए। गर्ग ने बिना किसी सेस या सरचार्ज के टैक्स के चार रेट तय करने का सुझाव देते हुए कहा कि पांच लाख रुपये तक की आय कर के दायरे से बाहर होनी चाहिए।
उन्होंने 5-10 लाख रुपये तक की आय पर पांच फीसद की दर हो और 10-25 लाख रुपये तक की आय पर 25 फीसद और 50 लाख रुपये से अधिक के इनकम पर 35 फीसद के रेट से आयकर लेने का सुझाव दिया है। साथ ही उन्होंने इनकम टैक्स पर लगने वाले सेस और सरचार्ज को भी खत्म करने की बात कही है।

सुस्त अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए सीआईआई ने बजट में की ये मांगें

आपको बता दें कि केंद्र सरकार ने सितंबर में कार्पोरेट टैक्स में कटौती की घोषणा की थी, जिसके बाद से व्यक्तिगत आयकर, एमएसएमई कंपनियों के लिए टैक्स रेट में कटौती की मांग की जा रही है। गर्ग का कहना है कि ‘चालू वित्त वर्ष के दौरान कॉरपोरेट कर प्रणाली को तर्कसंगत और प्रतिस्पर्धी बनाया गया है और इस संबंध में अब और कुछ किए जाने की उम्मीद नहीं है। अब व्यक्तिगत कर प्रणाली के संदर्भ में कुछ बड़े कर सुधार किए जाने की जरूरत है।’

दिसंबर तिमाही में रिलायंस ने पेट्रोल पंपों से पेट्रोल-डीजल की बिक्री में 10 फीसद की बढ़ोत्तरी दर्ज

आपको बता दें कि वर्तमान व्यवस्था में इनकम टैक्स के आठ स्लैब हैं और उच्चतम प्रभावी कर की दर 40 फीसद से भी ज्यादा है। गर्ग कहा कहना है कि पांच लाख से कम की आय पर कोई टैक्स नहीं, 5-10 लाख रुपये तक के इनकम पर पांच फीसद, 10-25 लाख रुपये तक की आय पर 15% टैक्स, 25-50 लाख रुपये तक की आय पर 25% और 50 लाख रुपये से अधिक की आय पर 35 फीसद का कर वाली प्रणाली ज्यादा साधारण एवं अधिक उचित कर व्यवस्था होगी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

आरएसएस प्रमुख की समझदारी पर सोनम ने उठाए सवाल, हुईं ट्रोल

नई दिल्ली : आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत द्वारा तलाक को लेकर दिए गए बयान को फिल्म अभिनेत्री सोनम कपूर ने मूखर्तापूर्ण बताया है। सोनम ने आगे पढ़ें »

modis

मोदी और शाह को ‘आतंकवादी’ कहने पर मुस्लिम नेता के खिलाफ मामला दर्ज

सम्भल (उत्तर प्रदेश) : उत्तर प्रदेश में सम्भल जिले के नखासा क्षेत्र में संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) के विरोध में आगे पढ़ें »

ऊपर