बजट की तैयारियां को लेकर वित्तमंत्री प्रतिनिधियों से ले रही हैं सुझाव

नई दिल्ली : मोदी सरकार-2.0 का पूर्ण बजट 5 जुलाई को पेश करेगी। बजट की तयारी जोरों शोर से चल रही है, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण बजट पेश होने से पहले उद्योग जगत के प्रतिनिधियों से अलग-अलग मिलकर उनके सुझाव ले रही हैं। मंत्री ने वित्तीमय और पूंजी बाजार क्षेत्र के प्रतिनिधियों के साथ प्री बजट मीटिंग की है।

इस बारे में अधिकारियों ने बताया कि बैंकरों ने वित्तू मंत्री से अर्थव्यवस्था में लिक्विडिटी (तरलता) यानी कैश फ्लो को लेकर चिंता जताई है। बैठक में एनबीएफसी क्षेत्र के प्रतिनिधियों ने लिक्विडिटी बढ़ाने का सुझाव दिया है। हालांकि बैंकरों ने पहले ही कह दिया था कि वे बिना सरकारी गारंटी के वित्तीसय मदद नहीं करेंगे। फाइनेंशियल सेक्टर चाहता है कि अगर बैंक एनबीएफसी को मदद करते हैं तो यह सरकारी गारंटी के साथ ही संभव हो पाएगा। यानी बैंकों की आर्थिक सुरक्षा की गारंटी सरकार को लेनी होगी।

मंत्री बैंकरों और वित्तीय सेवा संस्थानों के बीच बैठक में गैर-निष्पादित परिसंपत्ति (एनपीए) पर आरबीआई के संशोधित सर्कुलर पर अधिक जायजा लेने की उम्मीद है। आरबीआई के आंकड़ों के मुताबिक बैंक शाखा में 14. 88 फीसदी की वृद्धि हुई है। वित्तमंत्री पीएसयू बैंकों को आरबीआई द्वारा प्रमुख ब्याज दर में कटौती के फायदे का हस्तांतरण आम ग्राहकों तक करने की याद दिला सकती हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

वनडे क्रिकेट में किसी भी स्थान पर बल्लेबाजी को तैयार : रहाणे

नयी दिल्ली : भारतीय बल्लेबाज अजिंक्य रहाणे ने कहा कि उनकी अंतररात्मा की आवाज है कि वह एकदिवसीय प्रारूप में राष्ट्रीय टीम में वापसी करेंगे। आगे पढ़ें »

जरूरतमंद पूर्व खिलाड़ियों की मदद करती रहेगी सरकार : रीजिजू

नयी दिल्ली : खेलमंत्री किरेन रीजिजू ने शनिवार को कहा कि मंत्रालय जरूरतमंद पूर्व खिलाड़ियों की आर्थिक मदद करता रहेगा क्योंकि देश के लिये खेलते आगे पढ़ें »

ऊपर