फिच ने 2020-21 के लिए आर्थिक वृद्धि दर के अनुमान को घटाकर 0.8 फीसद किया

नई दिल्ली : कोरोना वायरस महामारी और लंबे लॉकडाउन के कारण आज एक बार फिर से रेटिंग एजेंसी फिच ने वित्त वर्ष 2020-21 में भारत की आर्थिक वृद्धि दर के अनुमान को घटाकर 0.8 फीसद कर दिया है। फिच ने कहा है कि भारत के जीडीपी वृद्धि दर अप्रैल 2020 से मार्च 2021 के लिए 0.8 फीसद तक कम हो जाएगी, जबकि पिछले वित्त वर्ष में 4.9 फीसद का अनुमान था।

हालांकि फिच ने 2020 के अंतिम तिमाही में ग्रोथ 1.4 फीसद पर पहुंचने की उम्मीद भी जताई है। दरअसल पूरी दुनिया के देश इन दिनों कोरोना प्रकोप के कारण लॉकडाउन पर हैं, जिसके कारण एजेंसी ने अपने नए ग्लोबल इकोनॉमिक आउटलुक में वैश्विक जीडीपी पूर्वानुमानों को घटा दिया है। फिच रेटिंग्स के अर्थशास्त्री ब्रायन कूल्टन ने कहा है कि विश्व की जीडीपी 2020 में घटकर 3.9 फीसद रहने की उम्मीद है।

स्थिति 2009 की मंदी से भी ज्यादा गंभीर हो सकती है। एजेंसी ने कहा है दुनिया के सभी देश वैश्विक महामारी के विनाशकारी आर्थिक नुकसान की चपेट में हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

दूध का सेवन कैसे करें ?

दूध अपने आप में सम्पूर्ण आहार है। आज के समय में मेट्रो शहरों में ताजा दूध मिलना संभव नहीं है क्योंकि अधिकतर दूध आस पास आगे पढ़ें »

भाजपा की ब्रिगेड सभा से चरमरा सकती है ट्रैफिक व्यवस्था

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : रविवार को ब्रिगेड परेड मैदान में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सभा होने वाली है। ऐसे में आज महानगर में राज्य के विभिन्न आगे पढ़ें »

ऊपर