20 लाख रुपये से ऊपर की आय पर लगे आयकर की 30 प्रतिशत दर

25 प्रतिशत हो कारपोर्ट कर की दरः फिक्की

नयी दिल्लीः फिक्की ने सरकार से आगामी बजट में छोटी-बड़ी हर प्रकार की कंपनियों पर कॉरपोरेट कर की दर घटा कर 25 प्रतिशत रखे जाने की सिफारिश की है। भारतीय वाणिज्य उद्योग महासंघ (फिक्की) का कहना है कि इससे कारोबार का विस्तार होगा और कर संग्रह भी बढ़ेगा। फिक्की नेयह भी सुझाव दिया है कि व्यक्तिगत आयकर की 30 प्रतिशत वाली सबसे ऊंची दर सालाना 20 लाख रुपये से ऊपर की आमदनी वालों पर ही लागू होनी चाहिए।

क्या है कारण


उद्योग मंडल ने कहा है कि भारत में कारोबार करने वाली इकाइयों के लिए ‘कर की लागत ऊंची है। इससे उत्पादन लागत ऊंची हो जाती है तथा कंपनियों की बचत और कम हो जाती है। परिणाम यह होता है कि उनके पास कारोबार में निवेश और विस्तार के लिए कम धन बचता है। विश्व के कई प्रमुख औद्योगिक देशों ने अपने यहां कर की दरों में काफी कमी की है। भारत में भी कंपनियों पर करों के बोझ में कमी करने पर विचार किया जाना चाहिए।’ उद्योगमंडल ने व्यक्तिगत आयकरदताओं को विनिर्दिष्ट निवेश योजनाओं में निवेश पर धारा 80ग के तहत मिलने वाली कटौती को बढ़ा कर तीन लाख रुपये करने की भी सिफारिश की है। उसका कहना है कि इससे ‘व्यक्तिगत बचत को प्रोत्साहन मिलेगा।’ कर्मचारियों के भोजन खर्च पर दैनिक 200 रुपये तक के खर्च पर करयोग्य आय में कटौती का लाभ दिया जाए। अभी यह सीमा 50 रुपये तक है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

कृषि क्षेत्र में बिहार का मॉडल सर्वश्रेष्ठ : जदयू

पटना : बिहार में सत्तारूढ़ जनता दल (यूनाइटेड) ने शुक्रवार को दावा किया कि कृषि क्षेत्र में राज्य का मॉडल सर्वश्रेष्ठ है। जदयू प्रवक्ता राजीव रंजन आगे पढ़ें »

The country has changed, good days have come: JP Nadda

जेपी नड्डा का शनिवार को बिहार दौरा 

पटना : भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष की जिम्मेदारी संभालने के बाद पहली बार शनिवार को बिहार के एक दिवसीय दौरे पर आ रहे आगे पढ़ें »

ऊपर