फार्मा उद्योग को पूर्वी यूरोप व रूस के विशाल अनछुए बाजार में संभावनाएं ढूंढ़नी चाहिए: गोयल

नई दिल्ली : वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये फार्मास्युटिकल उद्योग से विचार-विमर्श किया। गोयल ने कोविड संकट के दौरान हरसंभव सहयोग के लिए फार्मा उद्योग की सराहना करते हुए कहा कि भारत की पहचान अब ‘दुनिया की फार्मेसी’ के तौर पर बन गई है, पिछले दो महीनों के दौरान 120 से भी अधिक देशों को कुछ आवश्यक दवाएं मिलीं, जिनमें से 40 दवाएं उन्हें अनुदान के तौर पर मुफ्त में मिली हैं।

उन्होंने कहा कि कोविड संकट के दौरान डीजीएफटी, विदेश मंत्रालय, स्वास्थ्य और फार्मास्युटिकल विभाग ने निर्यात की खेपें जल्द से जल्द  पहुंचाने के लिए दिनरात काम किया। उन्होंने कहा कि भारत के पास अपनी अनुमानित घरेलू आवश्यकताओं की पूर्ति‍ के लिए एचसीक्यू एवं पीसीएम की पर्याप्त उत्पादन क्षमता और प्रचुर मात्रा में इनका स्टॉक है। गोयल ने कहा कि इन दवाओं के निर्यात पर प्रतिबंध लगाने का उद्देश्य यह सुनिश्चित करना रहा है कि दवाएं सभी जरूरतमंद देशों को उपलब्ध हों, और कोई भी अवांछित तत्व अनुचित लाभ के लिए इनका स्टॉक न करे।

मंत्री ने असाधारण प्रदर्शन करने के लिए फार्मा उद्योग की सराहना करते हुए कहा कि इस संकट के दौरान देश को दवाओं की किसी भी प्रकार की कमी का सामना नहीं करना पड़े। लॉकडाउन की घोषणा जल्द् यानी उचित समय पर कर देने से देश को महामारी का फैलाव रोकने के साथ-साथ स्वास्थ्य संबंधी बुनियादी ढांचागत सुविधाओं को बढ़ाने एवं क्षमता निर्माण के अलावा विभिन्न् तरह की सावधानियों और निवारक उपायों के बारे में लोगों के बीच जागरूकता उत्पन्न करने में भी मदद मिली।

बल्क ड्रग पार्क संवर्धन योजना को मंजूरी 

गोयल ने फार्मा उद्योग को यह आश्वासन दिया कि सरकार इस उद्योग को अपने विस्तार, विविधीकरण और सुदृढ़ीकरण में पूरा सहयोग देगी। उन्होंने कहा कि ‘आत्मनिर्भर भारत अभियान’ में फार्मा उद्योग की महत्वपूर्ण भूमिका है। गोयल ने कहा कि देश को जल्द से जल्द ‘एपीआई’ में आत्मनिर्भर बन जाना चाहिए, क्योंकि सरकार ने इसके लिए कई अहम कदम उठाए हैं। सरकार ने 3 बल्क ड्रग पार्कों में साझा वित्तपोषण के लिए ‘बल्क ड्रग पार्क संवर्धन योजना’ को पहले ही मंजूरी दे दी है। इसके साथ ही देश में महत्वपूर्ण केएसएम, दवा मध्यवर्ती अवयवों (ड्रग इंटरमीडिएट) और एपीआई के घरेलू विनिर्माण को बढ़ावा देने के लिए उत्पादन-संबद्ध प्रोत्साहन योजना को स्वीकृति दे दी गई है।

भारतीय फार्मा उद्योग को दुनिया ने माना, यूरोप में संभावनाएं

मंत्री ने कहा कि डंपिंग रोधी जांच प्रक्रिया में तेजी लाई गई है और मौजूदा द्विपक्षीय एफटीए (मुक्त व्याजपार समझौता) के मामले में यदि किसी भी तरह की बाधा या अनुचित प्रतिस्पर्धा के बारे में पता चलता है, तो सरकार को इस बारे में सूचित किया जा सकता है और फि‍र शीघ्र ही आवश्यक कदम उठाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि फार्मा उद्योग को पूर्वी यूरोप और रूस के विशाल अनछुए बाजार में अपने लिए संभावनाएं ढूंढ़नी चाहिए। आरएंडडी संबंधी प्रयासों में सहयोग का मार्ग अपनाने को लेकर गोयल ने कहा कि शिक्षाविदों, विश्वविद्यालयों, आईसीएमआर और निजी क्षेत्र को इसके लिए आपस में हाथ मिलाना चाहिए।

फार्मा पीएसयू में विनिवेश  करेगी सरकार 

सरकार ने कुछ फार्मा पीएसयू का विनिवेश करने का फैसला किया है और भारतीय कंपनियों को विनिर्माण के ‘प्लग एंड प्ले मॉडल’ के लिए पीएसयू का उपयोग करने के लिए आमंत्रित किया। वहीँ बैठक में उद्योग जगत ने अपनी राय और मांगे भी रखी, गोयल ने फार्मा उद्योग को यह आश्वासन दिया कि बैठक में पेश किए गए सभी सुझावों पर शीघ्र ही गौर किया जाएगा और जहां भी आवश्यकता होगी, अंतर-मंत्रालय परामर्श को जल्द से जल्द पूरा किया

शेयर करें

मुख्य समाचार

राजस्थान कांग्रेस पर छाए संकट के बादल, सचिन पायलट भाजपा नेताओं के संपर्क में

नई दिल्ली : राजस्थान की कांग्रेस सरकार पर संकट के बादल छाए नजर आ रहे हैं। राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट आगे पढ़ें »

अमिताभ-अभिषेक के बाद अब ऐश्वर्या और आराध्या भी कोरोना संक्रमित

मुंबई : अमिताभ बच्चन और अभिषेक बच्चन के बाद अब ऐश्वर्या और आराध्या बच्चन भी कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं। मालूम हो कि आगे पढ़ें »

ऊपर