पवनहंस में अपनी हिस्सेदारी बेचेगी सरकार, छह मार्च तक जमा होगी बोली

नयी दिल्ली : सरकार हेलीकॉप्टर सेवा प्रदाता कंपनी पवन हंस को बेचने जा रही है। एक अधिकारी के अनुसार कंपनी में सरकार और ओएनजीसी की हिस्सेदारी खरीदने के लिए वित्तीय बोली जमा करने की आखिरी तारीख छह मार्च तक है।अधिकारी ने बताया कि सौदे के लिये बनाये गये सलाहकार ने पवन हंस के लिए आरक्षित मूल्य भी तय कर दिया है, जिसे वह नागर विमानन मंत्रालय को सौंपेगा। इसके बाद मंत्रालय आरक्षित मूल्य को मूल्यांकन समिति के पास भेजेगा। इस समिति में वित्तीय सलाहकार, निवेश एवं लोक संपत्ति प्रबंधन विभाग (दीपम) के संयुक्त सचिव, संबंधित मंत्रालय और सीपीएसई के सीएमडी शामिल हैं।

बिक्री प्रक्रिया मार्च में पूरी हो जानी चाहिए
अधिकारी ने कहा, ”हमने छह मार्च तक वित्तीय बोलियां जमा करने के लिए कहा है। विनिवेश पर मुख्य समूह (सीजीडी) या वैकल्पिक तंत्र द्वारा आरक्षित मूल्य पर फैसले के बाद चयनित बोलीदाताओं की वित्तीय बोलियों को खोला जाएगा।” अधिकारी ने कहा कि पवन हंस की बिक्री प्रक्रिया मार्च में पूरी हो जानी चाहिए।

बता दें कि पवन हंस में सरकार की 51 प्रतिशत हिस्सेदारी है और शेष 49 प्रतिशत हिस्सेदारी ओएनजीसी के पास है। पवन हंस के बेड़े में 46 हेलीकॉप्टर हैं। बोली प्रक्रिया की गोपनीयता बनाये रखने के लिये बोली लगाने वालों की संख्या को सार्वजनिक नहीं किया गया है। वित्त मंत्री अरुण जेटली की अध्यक्षता में हुई रणनीतिक विनिवेश पर वैकल्पिक तंत्र की बैठक में अंतिम शेयर खरीद समझौते (एसपीए) को मंजूरी दी गई थी और वित्तीय बोलियां आमंत्रित करने के लिए कहा गया था। इस बैठक में नागर विमानन मंत्री सुरेश प्रभु भी शामिल थे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

कृषि क्षेत्र में बिहार का मॉडल सर्वश्रेष्ठ : जदयू

पटना : बिहार में सत्तारूढ़ जनता दल (यूनाइटेड) ने शुक्रवार को दावा किया कि कृषि क्षेत्र में राज्य का मॉडल सर्वश्रेष्ठ है। जदयू प्रवक्ता राजीव रंजन आगे पढ़ें »

The country has changed, good days have come: JP Nadda

जेपी नड्डा का शनिवार को बिहार दौरा 

पटना : भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष की जिम्मेदारी संभालने के बाद पहली बार शनिवार को बिहार के एक दिवसीय दौरे पर आ रहे आगे पढ़ें »

ऊपर