नोटबंदी के बाद 2017-18 में 1.07 करोड़ नए करदाताओं ने रिटर्न फाइल किया

नई दिल्ली : वर्ष 2016 में नोटबंदी के बाद 2017-18 में 1.07 करोड़ नये करदाताओं ने रिटर्न फाइल किया. केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड का कहना है कि वित्त वर्ष 2017-18 में 6.87 करोड़ आयकर रिटर्न फाइल किए गए, जबकि 2016-17 में 5.48 करोड़ आईटीआर फाइल हुए यानी 25 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है. आयकर विभाग का कहना है कि ड्रॉप्ड फाइलरों (पहले आईटीआर फाइल करने और बाद में न भरने वालों) की संख्या घटकर 25.22 लाख रह गई है.

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड का कहना है कि वर्ष 2017-18 में आईटीआर दाखिल करने वाले नए करदाताओं की संख्या बढ़कर 1.07 करोड़ हो गई, जबकि 2016-17 में 86.16 लाख नए करदाता जुड़े थे. सीबीडीटी ने कहा कि नोटबंदी ने कर आधार और प्रत्यक्ष कर संग्रहण के दायरे में विस्तार में असाधारण रूप से सकारात्मक असर डाला.

घटे हैं ड्रॉप्ड फाइलर
ड्रॉप्ड फाइलर ऐसे करदाता हैं जो पहले तो आईटीआर फाइल करने वालों में शामिल होते हैं, लेकिन किन्हीं तीन लगातार वित्त वर्ष में आईटीआर फाइल नहीं करते. ऐसे लोगों की संख्या 2016-17 में 28.34 लाख थी, जो 2017-18 में घटकर 25.22 लाख रह गई. 2016-17 की तुलना में 2017-18 में विशुद्ध प्रत्यक्ष कर संग्रहण 18 फीसद बढ़कर 10.03 लाख करोड़ हो गया.

शेयर करें

मुख्य समाचार

गंगा दशहरा : बंगाल में लॉकडाउन छूट के बीच श्रद्धालुओं ने की मां गंगा की अराधना

कोलकाता : कोरोना महामारी से सचेत और सतर्क बंगाल के श्रद्धालु सोमवार को गंगा दशहरा के अवसर पर कुछ अपने-अपने घरों में और कुछ ही आगे पढ़ें »

बढ़त के साथ खुले आज शेयर बाजार, इन शेयरों में दिखी तेजी

नई दिल्ली : आज सप्ताह के पहले दिन शेयर बाजार बढ़त के साथ खुले हैं और शुरुआती कारोबार में भी तेजी दिखी। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज आगे पढ़ें »

ऊपर