निजी विश्वविद्यालयों पर ज्यादा जिम्मेदारी

नई दिल्ली : सेंटर फॉर एजुकेशन ग्रोथ एंड रिसर्च (सीईजीआर) के तत्वाधान में नई दिल्ली में एकेडमिया कॉलेबोरेशन समीट का आयोजन किया गया, जिसमें देशभर के शिक्षाविदों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। इस मौके पर मुख्य अतिथि के रूप में सांसद गिरधारी यादव मौजूद थे। उन्होंने समीट को संबोधित करते हुए कहा कि आज देश शिक्षा व्यवस्था में बदलाव की जरूरत है। खास तौर पर ऐसे समय में जब तेजी से अर्थव्यवस्था बदल रही है और निजी विश्वविद्यालय पर जिम्मेदारी भी बहुत ज्यादा है।

गिरधारी यादव ने आजादी के इतने वर्ष बाद भी हमारे विश्वविद्यालय विश्व की रैंकिंग में नहीं आता है। शिक्षा में समाजिक स्तर पर बदलाव की जरूरत है, जिसके लिए पहल की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि सीईजीआर जिस प्रकार से लगातार विश्वविद्यालयों और रेगुलटरों को एक मंच पर लाया है, उसकी जितनी तारीफ की जाए कम है, क्योंकि ऐसे आयोजन से कई समस्या का हल एक जगह ही हो जाता है। गिरधारी यादव ने इंडियन एजुकेशन फेस्टिबल का सोवेनियर लांच करते हुए कहा कि हमें खुशी है कि सीईजीआर ने एक साथ देश में 56 आयोजन विभिन्न विश्वविद्यालय में किया। वह भी ऐसे समय में जब देश में चुनाव हो रहे थे, क्योंकि ऐसे समय में विकास और शिक्षा के कार्य लगभग ठप्प से हो जाते हैं।

इस मौके पर समीट का उद्घाटन भाषण एआईसीटीई के मेंबर सेक्रेटरी व प्रेसिडेंट सीईजीआर प्रो. एपी मित्तल ने कहा कि सीईजीआर की कोशिश लगातार रंग ला रही है, जिसके मूल में ही शिक्षा का विस्तार करना है और सभी शिक्षण संस्था को एक मंच पर लाकर उनकी समस्या को हल भी निकालना है। हम अपने आपको कैसे सुधार करते हैं, जिससे की सकारात्मक परिणाम आए। उन्होंने कहा कि सीईजीआर ने एमओयू साइन करने के लिए सभी विश्वविद्यालय को आंमत्रित किया है। एक साथ 156 एमओयू साइन होना काफी अद्भूत है। यह सीईजीआर की सफलता की कहानी बताता है। इस मौके पर शोभित यूनिवर्सिटी के चांसलर कुंवर विजेंद्र शेखर ने कहा कि देश में नौ सौ विश्वविद्यालय है लेकिन कोई एक्सचेंज के बारे में नहीं सोचता।

सीईजीआर ने इस पर कार्य किया है और यह तय है कि आने वाले दिनों में इसका प्रभाव दिखेगा। इस मौके पर जेके लक्ष्मीपति यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर प्रो. आर. एल. रैना, गुजरात टेक्नोलॉजी यूनिवर्सिटी के वाइस चासंलर प्रो. नवीन सेठ, एनएसडीसी के सीईओ मोहित सोनी, एआईसीटीई के डायरेक्टर डॉ रमेश उन्नीकृष्णन ने भी संबोधित किया और एमओयू साइन करने के लिए अन्य विश्वविद्यालय को आमंत्रित भी किया। वहीं न्यू दिल्ली इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट के चेयरमैन वीएम बंसल ने पहले सत्र में धन्यवाद ज्ञापन करते हुए कहा कि हम सभी कॉलेज और विश्वविद्यालय को बराबर आमंत्रित किया है और यह तो मौका है आप हमारे संस्थान आइए और उसका लाभ उठाइए।

सीईजीआर जब भी ऐसे कार्यक्रम करता है, हम अवश्य उत्साह वर्द्धन करते हैं। पूरे दिन समीट में तीन सत्र का आयोजन किया गया, जिसमें दूसरे सत्र तकनीकी सत्र था, वहीं अंतिम सत्र कई विश्वविद्यालयों ने पीपीटी द्वारा पूरे विस्तार से संस्थान की विशेषता बताई। समीट के समापन में सीईजीआर डायरेक्टर रविश रोशन ने धन्यवाद ज्ञापन करते हुए साइन हुए एमओयू की संख्या की चर्चा की। जिसका लोगों ने जोरदार ढ़ंग से स्वागत किया। गौरतलब है कि सीईजीआर समय समय पर शिक्षा को आगे बढ़ाने के लिए एकेडमिया और इंडस्ट्री में सामंजस्य के लिए ऐसे कार्यक्रम करता रहा है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

टाला ब्रिज पर डायवर्सन के कारण 100 मिनी बसें चलाएगा परिवहन विभाग

वाहनों के डायवर्सन से यात्रियों को नहीं होगी समस्याः शुभेन्दु अधिकारी कोलकाताः टाला ब्रिज पर बस व भारी वाहनों की पाबंदी के बाद बड़े पैमाने पर आगे पढ़ें »

बीजीबी की कार्रवाई बेवजह, हमने नहीं चलाई एक भी गोलीः बीएसएफ

मुर्शिदाबादः बॉर्डर गार्ड बांग्लादेश (बीजीबी) के जवानों ने बीएसएफ के जवान को लक्ष्य कर जानबूझकर चलायी थी गोली। यह मानना है सीमा पर तैनात बीएसएफ आगे पढ़ें »

ऊपर