देश में निर्यात में गिरावट का दौर जारी, दिसंबर में 0.8 प्रतिशत घटा, व्यापार घाटा 15.71 अरब डॉलर पर

नयी दिल्ली: देश में निर्यात में गिरावट का दौर जारी है। यह लगातार तीसरा महीना है, जब निर्यात में गिरावट आयी है। देश का निर्यात दिसंबर 2020 में 0.8 प्रतिशत घटकर 26.89 अरब डॉलर रह गया। वाणिज्य मंत्रालय द्वारा शनिवार को जारी शुरुआती आंकड़ों के अनुसार दिसंबर में आयात 7.6 प्रतिशत बढ़कर 42.6 अरब डॉलर पर पहुंच गया। इससे व्यापार घाटा बढ़कर 15.71 अरब डॉलर हो गया। दिसंबर 2019 में निर्यात 27.11 अरब डॉलर रहा था। हालांकि, निर्यात में गिरावट की रफ्तार में कम हुई है। नवंबर में निर्यात में 8.74 प्रतिशत की गिरावट आयी थी। दिसंबर, 2019 में आयात 39.5 अरब डॉलर रहा था। आयात ने नौ माह बाद सकारात्मक वृद्धि दर्ज की है। इससे पहले फरवरी में आयात 2.48 प्रतिशत बढ़ा था। मंत्रालय ने कहा कि दिसंबर, 2020 में भारत शुद्ध आयातक रहा। इस दौरान व्यापार घाटा 15.71 अरब डॉलर रहा। दिसंबर, 2019 में व्यापार घाटा 12.49 अरब डॉलर रहा था। इस तरह व्यापार घाटा 25.78 प्रतिशत बढ़ा है।
मालूम हो कि आयात और निर्यात का अंतर व्यापार घाटा कहलाता है। व्यापार घाटा जुलाई 2020 के बाद सबसे ऊंचे स्तर पर पहुंच गया है। जून 2020 में देश व्यापार अधिशेष की स्थिति में था। चालू वित्त वर्ष की अप्रैल-दिसंबर की अवधि में देश का वस्तुओं का निर्यात 15.8 प्रतिशत घटकर 200.55 अरब डॉलर रहा है। इससे पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में निर्यात का आंकड़ा 238.27 अरब डॉलर रहा था। चालू वित्त वर्ष के पहले नौ माह में आयात 29.08 प्रतिशत की गिरावट के साथ 258.29 अरब डॉलर पर आ गया। इससे पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में आयात 364.18 अरब डॉलर रहा था। दिसंबर, 2020 में कच्चे तेल का आयात 10.37 प्रतिशत घटकर 9.61 अरब डॉलर रह गया। चालू वित्त वर्ष के पहले नौ माह अप्रैल-दिसंबर में तेल आयात 44.46 प्रतिशत घटकर 53.71 अरब डॉलर रहा है। निर्यातकों के प्रमुख संगठन फेडरेशन ऑफ इंडियन एक्सपोर्ट ऑर्गेनाइजेशन (फियो) के अध्यक्ष शरद कुमार सर्राफ ने कहा कि निर्यात में 0.8 प्रतिशत की मामूली गिरावट से सुधार का संकेत मिलता है। ऑडरों की बुकिंग में लगातार सुधार हो रहा है। सर्राफ ने सरकार ने कुछ महत्वपूर्ण मुद्दों मसलन कंटेनरों की उपलब्धता बढ़ाने, ढुलाई शुल्क में कमी करने और भारत से वस्तुओं के निर्यात की योजना (एमईआईएस) के लाभ जारी करने और भारत से सेवाओं के निर्यात की योजना (एसईआईएस) पर चीजों को स्पष्ट करने की मांग की है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

तृणमूल का इंजन हैं ममता, सबको साथ लेकर चलती हैं : पार्थ

कहा : कौन किस स्टेशन पर उतरेगा उससे पार्टी को फर्क नहीं पड़ता तृणमूल की संपदा कार्यकर्ता है जो हमारे साथ है सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : पार्टी से आगे पढ़ें »

इस बार खास, सारे पोलिंग बूथ होंगे अंडरग्राउंड

80 साल से अधिक उम्र व दिव्यांग मतदाताओं को होगी सहूलियत सी-विजिल एप पर कर सकेंगे किसी प्रकार की शिकायत सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर आगे पढ़ें »

ऊपर