देश के पहले मोबिलिटी फेस्टिवल में भविष्य के वाहनों की झलक दिखी

नई दिल्ली: भविष्य के व्यापार और वाहनों के लिए देश के पहले मोबिलिटी मिशन फेस्टिवल का पिछले दिनों नई दिल्ली में ईएमपीआई और नीति आयोग के अटल इनक्यूबेशन ने आयोजन किया। यह देश का पहला फ्यूचरिस्टिक प्लेटफार्म था, जिसका मकसद विभिन्न सेक्टरों के लिए भविष्य की खोजों को प्रोत्साहन देना था। नालेज पार्टनर के रूप में रिकार्डो एशिया और निसान मोटर्स के सहयोग से यह फेस्टिवल ईएमपीआई के रेजीडेंशियल कैंपस में आयोजित किया गया।

नीति आयोग, भारत सरकार के अटल इनक्यूबेशन सेंटर के निदेशक रामानाथम रामानम ने इस फेस्टिवल का उद्घाटन किया। फेस्टिवल में स्मार्ट और नवीकरणीय ऊर्जा पर फोकस किया गया। फेस्टिवल में देश भर के स्टार्टअप्स के 300 इंजीनियरिंग और मैनेजमेंट के स्टूडेंट्स के अलावा बांगलादेश, वियतनाम, फीलीपींस, फिजी, अफगानिस्तान और ताइवान जैसे देशों से भी पार्टीसिपेंट्स ने भी भाग लिया। इस दौरान विभिन्न वर्कशाप और पैनल डिस्कशन हुए। ईएमपीआई इंस्टीट्यूशंस के अध्यक्ष पंकज शरण ने सभी का स्वागत करते हुए उन्हें फेस्टिवल के आयोजन के पीछे उद्देश्य की जानकारी दी।

फेस्टिवल में विभिन्न क्षेत्र के विशेषज्ञों ने छात्रों, स्टार्टअप्स और कुटीर उद्योगों से भाग लेने आए लोगों को व्यापार के क्षेत्र में नए आइडिया, थीमेटिक कंसेप्ट आदि की जानकारी दी गई। रिकार्डो एशिया के प्रेसीडेंट श्रीहरि मुलगुंड और आथर एनर्जी के साफ्टवेटर इंटेलीजेंस के वाइस प्रेसीडेंट शिरीष बच्चू ने मोबिलिटी के क्षेत्र में बदलते आयामों के बारे में विस्तार से जानकारी दी। इस दौरान दो सत्र हुए, जिनमें से एक की परिकल्पना आईबीएम के डिजाइन डाइरेक्टर मनीष वशिष्ठ ने तैयार की थी, जबकि दूसरे की रूपरेखा अफ्रीका, मध्य पूर्व तथा भारत के लिए निसान मोटर्स कारपोरेशन के महाप्रबंधक नितिन नायर ने तैयार की थी।

शाम को इनोवेशन इन फ्यूचर मोबिलिटी पर पैनल डिस्कशन में पैनासोनिक के एनर्जी डिवीजन के हेड अतुल आर्य, आईबीएम सीनियर बिजनेस कल्सल्टिंग सर्विस के मैनेजमेंट कंसल्टेंट गौरव तलवार, निसान इंडिया की मार्केटिंग डिवीजन के वाइस प्रेसीडेंट श्रीराम पद्मनाभन, दिल्ली इंटीग्रेटेड मल्टीमोडल ट्रांसपोर्ट सिस्टम के एजीएम सौम्या भट्टाचार्य, रिकार्डो एशिया के वाइस प्रेसीडेंट प्रसाद माने ने अपने विचार व्यक्त किए। माडरेटर थे आटो टेक रिव्यू के चीफ एडीटर देव शर्मा। 30 घंटे तक चले फेस्टिवल के दौरान हैकाथान, डिजाइनाथन, ब्रैंडाथान, मेकाथान एक्सपो और क्विजिलिटी हुईं।

हैकथान के जरिए आटो-ईको सिस्टम से इंडस्ट्री के सामने आने वाली परेशानियों को उजागर किया गया। डिजाइनाथान, ब्रैंडाथान और पिचाथान में जाने-माने विशेषज्ञों की क्लास हुई, जिनमें टीमों को समस्याएं दी गईं, जिन्हें उनको सुलझाना था। पिचाथान टीम को नए बिजनेस आइडियाज बताने थे, ताकि निवेशकों निवेश के लिए अच्छा माहौल और अवसर मिल सकें। इसी तरह क्यूजिलिटी के तहत प्रतिभागियों को मोबिलिटी ईको सिस्टम पर बेहतरीन क्विज दी गईं। मेकाथान के तहत भारत और विदेशी छात्रों की टीमों को मोटरसाइकिल से लेकर पनडुब्बी तक के ऐसे इनोवोटिव प्रोटोटाइप बनाने को कहा गया, जो समुद्र में तेल रिसाव और कूड़े-कचरे का पता लगा सकें।

विभिन्न सब इवेंट्स पर डिजाइनशिफ्ट के सह संस्थापक, सुधीर मोर, इंडिस्ट्रयल डिजाइनर राहुल कुम्भार, डसाल्ट सिस्टम्स के वरुण अरोड़ा, क्रेस्ट कैपिटल के डाइरेक्टर और वेंचर कैटालिस्ट के सलाहकार तथा मैनेजिंग पार्टनर गगन घई, हंसा रिसर्च ग्रुप के उपाध्यक्ष रोहित कुमार, निसान के महाप्रबंधक पुनीत बांगा ने मास्टरक्लास ली। निर्णायकों में रिकार्डो एशिया के श्रीहरि मुलुंड, मोन्स्टर के चीफ मार्केटिंग आफीसर अंशुल पंजाबी, निसान के उपाध्यक्ष प्रीराम पद्मनाभन और वेंचर कैटालिस्ट के मैनेजिंग पार्टनर नीरज त्यागी थे। फेस्टिवल में निसान, हुंडई, टाटा मोटर्स, एसल गो, एरियन मोबिलिटी, एमटूगो, आरएनए इनोवेशंस ने अपने बेहतरीन और भविष्य के शानदार वाहन प्रदर्शित किए, इनमें निसान की भविष्य में लांच होने वाली ई कार लीफ 2 भी शामिल थी।

निसान इंडिया के उपाध्यक्ष (विपणन) श्रीराम पदमनाभन ने कहा कि वे इस आयोजन को देखकर खासे प्रभावित हुए हैं प्रतिभागी छात्रों ने जो सृजनात्मकता दिखाई है वह प्रभावित करने वाली है। रिकार्डो (एशिया) के अध्यक्ष और प्रमुख विशेषज्ञ श्रीहरि मुलगुंड ने कहा कि उन्हें कार्यक्रम में शिरकत करते हुए शानदार अनुभव हुआ है। छात्रों की सृजनात्मक क्षमता,उत्सुक्ता और नई सोच काबिल ए तारीफ है। इस उत्सव ने उन्हें प्रभावित किया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

britain prime minster is son in law of India

ब्रिटेन : मतदाताओं के जताए भरोसे पर खरा उतरूंगा : बोरिस जॉनसन

लंदन : ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने संकल्प लिया है कि वह पूर्व में विपक्ष के लिए मतदान करने वाले उन मतदाताओं के भरोसे आगे पढ़ें »

इमरान सरकार ने कट्टरपंथी विचारों को बढ़ाया, हिंदू-ईसाइयों पर खतरा-यूएन

न्यूयॉर्क : संयुक्त राष्ट्र ने कहा है कि प्रधानमंत्री इमरान खान के नेतृत्व में पाकिस्तान में धार्मिक स्वतंत्रता लगातार बिगड़ती जा रही है। वहां के आगे पढ़ें »

ऊपर