चीन के उत्पादों का हो बहिष्कार : व्यावसायिक संगठन

सन्मार्ग संवाददाता, कोलकाता : कोरोना वायरस की महामारी के बीच चीन ने लद्दाख की सीमा पर हिमाकत की है और एक बार फिर यह स्पष्ट किया है कि हमें चीन से आयात होने वाले सामानों के बहिष्कार के संबंध में हमें गंभीरता से सोचना चाहिए। जहां हमारे सैनिक हमारी सीमाओं की रक्षा में जुटे हैं, वहीं सरकार यह प्रयास कर रही है कि आयात पर आर्थिक पाबंदियों को लगा कर स्वदेशी सामानों को बढ़ावा दिया जा सके। इस बीच, व्यावसायिक संगठनों ने भी चीन के उत्पादों पर निर्भर नहीं रहने की अपील की है और स्वदेशी को प्रमोट करने के लिए कहा है। क्रेडाई, मर्लिन ग्रुप और कनफेडरेशन ऑफ वेस्ट बंगाल ट्रेड एसोसिएशन (सीडब्ल्यूबीटीए) की ओर से अपील की गयी कि चीनी उत्पादों पर निर्भर ना रह कर स्वदेशी अपनाएं।

क्रेडाई नेशनल ने कहा :

क्रेडाई नेशनल के अध्यक्ष सतीश मागर ने कहा, ‘हम अपने मेम्बर डेवलपर्स से अपील करते हैं कि वे चीन के उत्पादों पर निर्भर ना रहें और स्वदेशी अथवा मेड इन इंडिया के प्रोडक्ट्स को जीवनशैली और व्यवसाय का हिस्सा बनाएं। क्रेडाई ने अपने 250 उद्योगों जो कि रियल इस्टेट सेक्टर से जुड़े हुए हैं, उनसे अपील की कि स्थानीय रूप से इन उत्पादों को बनाएं और विशेषकर ऐसे उत्पादों का विकल्प तलाशें जो चीन से आयात होती हैं।’ क्रेडाई स्थानीय उत्पादकों को पूरी तरह सहयोग करने के लिए तैयार है।

मर्लिन ग्रुप ने कहा :

मर्लिन ग्रुप के चेयरमैन सुशील मोहता ने कहा कि मर्लिन ग्रुप में भी सभी क्षेत्रों में इस तरह के कदम उठाये जा रहे हैं।

सीडब्ल्यूबीटीए ने कहा :

सीडब्ल्यूबीटीए के अध्यक्ष सुशील पोद्दार ने कहा कि हमें भी आगे आकर इस प्रयास में सरकार की मदद करते हुए चीनी सामानों की बिक्री और उसके प्रमोशन पर रोक लगानी चाहिए। संगठन की ओर से अपील की गयी कि यथासंभव चीनी उत्पादों की बिक्री और उसके प्रमोशन को रोकें तथा भारतीय उत्पादों को बढ़ावा दें। हम सदस्यों से अपील करते हैं कि आगे आकर वह उन चीनी उत्पादों का उत्पादन भारत में ही करने की पहल करें जिनका वह कारोबार करते हैं, क्योंकि उन उत्पादों के संबंध में उन्हें ही बेहतर जानकारी है। वहीं संगठन के सचिव राजेश भाटिया व कोषाध्यक्ष प्रदीप लुहारी वाला ने बताया कि हम इस संबंध में एमसएमई अधिकारियों से भी संपर्क में हैं ताकि ऐसे उत्पादों को अपनी स्थिति के मुताबिक चिह्नित किया जा सके। यह अपेक्षा की जाती है कि सदस्य चीनी उत्पादों से परहेज करने की रणनीति बनाएं। इसके लिए एक नयी इंटरप्राइज बनायी जाए।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बंगाल में आज आए अभी तक के सबसे अ​धिक मामले व हुई सबसे अधिक मौत

कोलकाता : वेस्ट बंगाल कोविड-19 हेल्थ बुलेटिन के अनुसार बंगाल में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के 669 नये मामले है आए है आगे पढ़ें »

जूनियर खिलाड़ियों के लिए टॉप्स योजना शुरू करेगा खेल मंत्रालय : रीजिजू

नयी दिल्ली : खेल मंत्री किरेन रीजिजू ने शुक्रवार को कहा कि उनकी सरकार जल्द ही 2028 तक ओलंपिक चैंपियन बनाने के उद्देश्य से देश आगे पढ़ें »

ऊपर