जेट को लेकर खरीदारों में उदासीनता बढ़ी

नई दिल्ली : जेट एयरवेज के लिए बुरी खबर है। जेट के लिए बोली लगाने वाली कंपनियों की भी जेट एयरवेज में दिलचस्पी घट रही है। रिपोर्ट के मुताबिक जेट एयरवेज में हिस्सेदार और बोली लगाने वाली एकलौती एविएशन कंपनी एतिहाद भी पीछे हट सकती है।

एतिहाद एयरलाइन्स ज्यादा पूंजी डालने को तैयार नहीं है और वर्किंग लोन के लिए भी वह बैंकों पर ही निर्भर है। बोली लगाने वाली दूसरी कंपनियां भी जेट एयरवेज की उड़ानें जारी रहने तक तो काफी उत्साहित थीं, लेकिन कामकाज ठप होने के बाद पार्किंग लॉट और उड़ानों के स्लॉट अन्य एयरलाइंस को दिए जाने से वे बहुत खुश नहीं हैं। हालांकि, सरकार दूसरी एयरलाइंस को स्लॉट अधिकतम तीन महीने के लिए देने जा रही है, जिसके बाद निवेशकों के मन में सवाल है कि जेट में इनवेस्ट करने वालों के हाथ क्या लगेगा। इन सवालों का सही जवाब नहीं मिलने के कारण निवेशक जेट एयरवेज में दिलचस्पी नहीं दिखा रहे हैं।

कॉरपोरेट अफेयर्स मंत्रालय की ओर से भी जेट एयरलाइंस के खिलाफ एक पुराने मामले में जांच जारी है। ऐसे कई पहलू हैं, जिसे देखकर निवेशक हिचक रहे हैं। इस बीच जेट के कर्मचारियों ने भी संकेत दे दिए हैं कि अगर मामले का कोई हल नहीं निकला तो वे अपना बकाया वसूलने के लिए एयरलाइन को एनसीएलटी में में घसीट सकते हैं।

जेट एयरवेज में 75 फीसदी तक हिस्सेदारी खरीदने के लिए कंपनियों से बोलियां मंगवाई जा रही हैं। बोली लगाने वालों को 10 मई तक बोली सौंपनी है। अब तक एनआईआईए, एतिहाद, इंडिगो पार्टनर्स और टीपीजी ने बोलियों में दिलचस्पी दिखाई है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बंगाल में कोरोना के 1390 आये नये मामले

कोलकाता : वेस्ट बंगाल कोविड-19 हेल्थ बुलेटिन के अनुसार पश्चिम बंगाल में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के 1390 नये मामले सामने आये आगे पढ़ें »

भारत में अल्पपोषित लोगों की संख्या छह करोड़ घटकर 14 प्रतिशत पर पहुंची : संयुक्त राष्ट्र

संयुक्त राष्ट्र : भारत में पिछले एक दशक में अल्पपोषित लोगों की संख्या छह करोड़ तक घट गई है। संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट में आगे पढ़ें »

ऊपर