जेट एयरवेज कर्मियों की सरकार करेगी मदद, उनके लिए बनाएगी वेबसाइट

नई दिल्ली : जेट एयरवेज के पूर्व कर्मचारियों की मोदी सरकार मदद करेगी। यह बात सिविल एविएशन मिनिस्टर हरदीप सिंह पुरी ने कही। सरकार जेट के पूर्व कर्मचारियों को नौकरी दिलाने में मदद करेगी। पुरी ने बताया कि मंत्रालय प्राइवेट एयरलाइनों से बातचीत कर रहा है, ताकि जेट के पूर्व कर्मचारियों को नौकरी मिल सके। इन एयरलाइन में स्पाइसजेट और इंडिगो शामिल हैं।

पुरी ने राज्यसभा में कहा कि जेट के पूर्व कर्मचारियों के लिए 1 वेबसाइट लॉन्च की जाएगी, ताकि उन्हें नौकरी मिल सके। वेबसाइट तैयार है और इसमें हरेक कर्मचारी का ब्योरा दिया जाएगा। पुरी ने विश्वास जताया था कि बंद पड़ी विमानन कंपनी को दोबारा शुरू करने का समाधान निकाला जाएगा। पुरी ने कहा था कि हमें पूरा भरोसा है कि हम इस बंद पड़ी एयरलाइन को शुरू करने का हल निकाल सकते हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक जेट एयरवेज ने धन की कमी के कारण 17 अप्रैल से अपने सभी ऑपरेशन को रोक दिया है। कंपनी के पास 119 विमान थे, जिनमें करीब 90 विमान दूसरी कंपनियों को पट्टे पर दे दिए गए हैं।

उधर, जेट एयरवेज की प्रमुख संपत्ति-फ्लाइंग लाइसेंस एविएशन के नियामक के पास जांच के लिए पड़ा है। इससे एनसीएलटी -समर्थित समाधान प्रक्रिया पटरी से उतर सकती है। एयरलाइन के बैंकर भी घबराए हैं। रद्द एयर ऑपरेटर सर्टिफिकेट एयरलाइन से अपेक्षित रिकवरी की कमी होगी, जिस पर 8,000 करोड़ रुपये से अधिक का बकाया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

पूर्व मुख्यमंत्री पर लगा फोन टैपिंग का आरोप, येदियुरप्पा बोले- होगी सीबीआई जांच

बेंगलुरू : कर्नाटक में नई सरकार आने के बाद से लगातार फोन टैपिंग का मामला गरमाया हुआ है। रविवार को मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने इस आगे पढ़ें »

गूगल मैप ने चार महीने से लापता बेटी को पिता से मिलाया

नयी दिल्लीः गूगल मैप की सहायता से दिल्ली पुलिस ने चार महीने से लापता हुई 12 वर्षीय बच्ची को उसके पिता से मिला दिया। पुलिस आगे पढ़ें »

ऊपर