सत्ता में आये तो कर की दरें कम करने का सिलसिला जारी रखेंगे : जेटली

नयी दिल्ली : वित्त मंत्री अरुण जेटली का कहना है कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नीत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) आम चुनावों के बाद यदि सत्ता में वापस आती है तो वह राजकोषीय सूझबूझ से चलते हुये कर की दरों को कम करने का सिलसिला जारी रखेगी।
जेटली ने यह बातें भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) की सालाना आम सभा को संबोधित करते हुए कही। उन्होंने कहा कि ‘‘मैं कराधान नीतियों के संदर्भ में कहूंगा, मैं इसको लेकर इन दो मुद्दों पर पूरी तरह स्पष्ट हूं। कम से कम हमने राजकोषीय मोर्चे पर सावधानी बरती है और दरों को नीचे लाये। यदि हम सत्ता में रहते हैं तो इसी रास्ते पर आगे बढ़ेंगे।’’
वैश्विक रूख कुछ भी रहे, घरेलू उपभोग बढ़ेगा
जेटली ने कहा कि माल एवं सेवा (जीएसटी) परिषद ने उपभोग की कई वस्तुओं को कर की सबसे ऊंची 28 प्रतिशत की दर से घटाकर 12 या 18 प्रतिशत के दायरे में रखा है। हमारे एजेंडा में अगला कदम सीमेंट पर कर की दर घटाना है। उन्होंने कहा कि भारत की वृद्धि दर 7 से 7.5 प्रतिशत के बीच स्थिर है। वैश्विक रूख कुछ भी रहे घरेलू उपभोग बढ़ेगा। उन्होंने कहा, ‘‘हम 7 से 7.5 प्रतिशत की वृद्धि दर तब हासिल कर पा रहे हैं जबकि वैश्विक स्तर पर किसी तरह का समर्थन नहीं है।‘‘
घोषणापत्र में कुछ चीजें सामने आयेंगी
जेटली ने कहा कि पिछले पांच साल के दौरान सरकार ने कर दरें नहीं बढ़ाई हैं और कुछ मामलों में तो कर दायरा बढ़ाया है और कर संग्रह बढ़ा है। वित्त मंत्री ने कहा कि पिछले करीब 20 माह में उपभोग की सभी वस्तुओं पर जीएसटी की दर को 28 प्रतिशत से घटाकर 18 या 12 प्रतिशत किया गया है। सिर्फ सीमेंट पर ऐसा नहीं हो पाया है। कुछ समय की बात है इस पर भी कर की दर घटेगी। यह पूछे जाने पर यदि सरकार सत्ता में वापस आती है तो क्या कदम उठाए जाएंगे, जेटली ने कहा, ‘‘कुछ दिन का इंतजार करें। हमारा घोषणापत्र आने दीजिए। संभवत: उसमें कुछ चीजें सामने आएंगी।’’
गौरतलब है कि भारतीय रिजर्व बैंक ने गुरुवार को चालू वित्त वर्ष के लिए वृद्धि दर के अनुमान को 0.2 प्रतिशत घटाकर 7.2 प्रतिशत कर दिया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

महंगे बिल की शिकायतों के बाद केबल टैरिफ की समीक्षा करेगी ट्राई

नई दिल्ली : भारतीय टेलिकॉम नियामक प्राधिकरण (ट्राई) ने यूजर्स द्वारा लगातार महंगे बिल की शिकायत के बाद ब्रॉडकास्टिंग और केबल इंडस्ट्री टैरिफ की दोबारा आगे पढ़ें »

पांच हजार अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था के लिए बैंकों ने किया विचार-मंथन

नयी दिल्लीः अगले पांच साल में देश को पांच हजार अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने में मदद के लिए बैंकिंग क्षेत्र को और अधिक मजबूत आगे पढ़ें »

बासुकीनाथ में अब पूजा अर्चना के लिए बनेंगे आजीवन दाता कार्ड

आतंकवादियों को अलग-थलग करने पर ध्यान केंद्रित कर रही है कश्मीर पुलिस : डीजीपी

flood

हिमाचल : बारिश और बाढ़ की चपेट में आने से 8 लोगों की मौत, प्रदेश के 323 सड़के क्षतिग्रस्त

Gun-shot 1

आरपीएफ जवान ने गोलीमार कर की रेलकर्मी समेत उसकी पत्नी और पुत्री की हत्या

saho

इस फिल्‍म के नए पोस्टर में दिखी प्रभास और श्रद्धा कपूर की लव केमिस्ट्री

rajnath

रक्षामंत्री ने पाक को दी चेतावनी, पीओके के अलावा किसी दूसरे विषय पर बातचीत नहीं होगी

जियो फाइबर ब्रॉडबैंड अगले महीने होगी लॉन्च, जानिए प्लान्स

एफपीआई से लगातार निकासी जारी, अबतक घरेलू पूंजी बाजार से 8,319 करोड़ रुपये की निकासी

ऊपर