326 उत्पादों को मिली भौगोलिक पहचान

नयी दिल्लीः कांचीपुरम की रेशमी साड़ी, अल्फांसो आम, नागपुर की नारंगी और कोल्हापुरी चप्पल उन 326 भारतीय उत्पादों में से हैं जिन्हें उनकी भौगोलिक पहचान मिल चुकी है। इन उत्पादों में बासमती चावल, दार्जिलिंग चाय, चंदेरी कपड़ा, मैसुरू रेशम, कुल्लू की शॉल, कांगड़ा चाय, तंजौर की चित्रकला, इलाहाबादी सुरखा (अमरूद की किस्म), फरुखाबादी छापा, लखनवी जरदोजी और कश्मीरी अखरोट की लकड़ी पर नक्काशी आदि शामिल हैं। सरकार की ओर से यह भौगोलिक पहचान संकेतक बौद्धिक संपदा अधिकार संवर्द्धन एवं प्रबंधन प्रकोष्ठ (सीपम) देता है। सीपम औद्योगिक नीति एवं संवर्द्धन विभाग (डीआईपीपी) के अंतर्गत आता है। प्रकोष्ठ ने एक ट्वीट में बताया, ‘ भौगोलिक पहचान पंजीयक ने एक और कीर्तिमान स्थापित किया है। इसमें 14 विदेशी भौगोलिक संकेतक रखने वाले उत्पाद शामिल हैं।’

क्या है भौगोलिक पहचान
किसी उत्पाद की भौगोलिक पहचान, उसकी गुणवत्ता, विशिष्टता और उसकी उत्पत्ति की विशिष्ट जगह की पहचान कराती है। जिस उत्पाद को यह संकेतक मिलता है, तो कोई और कंपनी या व्यक्ति उस नाम से दूसरे किसी उत्पाद को नहीं बेच सकता है। यह संकेतक 10 साल की अवधि के लिए होता है जिसका बाद में नवीनीकरण कराया जा सकता है। साथ ही इससे किसी उत्पाद को उसकी विशिष्टता बनाए रखने के लिए कानूनी संरक्षण भी मिलता है।


Leave a Comment

अन्य समाचार

SKODA ने 15.49 लाख रुपये में ऑक्टेविया का कॉरपोरेट संस्करण लॉन्च किया

नई दिल्ली : स्कोडा ऑटो (Skoda Auto) इंडिया ने अपनी प्रीमियम सेडान कार ऑक्टेविया (Octavia) का 'कॉरपोरेट संस्करण' 15.49 लाख में पेश किया है. ऑक्टेविया का 1.4 टीएसआई (एमटी) पेट्रोल इंजन ऑक्टेविया कॉरपोरेट संस्करण की कीमत 15.49 लाख रुपये है, जबकि [Read more...]

विमानन कंपनियों के बढ़ते किराए को लेकर DGCA करेगी बैठक

नई दिल्ली : एक तरफ केंद्र सरकार उड़ान योजना के जरिए आम लोगों तक विमानन सेवा पहुंचाना चाहती है तो वही दूसरी तरफ विमान कंपनियां अपना किराया बढ़ा रही हैं. नागर विमानन महानिदेशालय (DGCA) ने हवाई किराए में लगातार हो [Read more...]

मुख्य समाचार

भारत-भूटान सीमांत शहर जयगांव से 55 लाख के साथ 4 गिरफ्तार

अलीपुरद्वार/कोलकाताः अलीपुरद्वार जिले के भारत-भूटान सीमांत शहर जयगांव से सोमवार को चुनाव आयोग के अधिकारियों और पुलिस की संयुक्त छापेमारी में 55 लाख रुपये सहित चार लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया। अलीपुरद्वार जिले के अतिरिक्त पुलिस [Read more...]

पुलिस की नाक के नीचे हो रही थी गांजे की खेती, हुआ पर्दाफाश

झाड़ग्राम : झाड़ग्राम में पुलिस की नाक के नीचे ही पिछले काफी समय से गांजे की खेती की जा रही थी जिसका आखिरकार पर्दाफाश हुआ। गोपीबल्लभपुर इलाके में पुलिस और आबकारी विभाग ने मिलकर गांजे की खेती [Read more...]

ऊपर