जियो और माइक्रोसॉफ्ट ने भारत में डिजिटल ट्रांसफॉर्मेशन को बढ़ावा देने के लिए गठबंधन किया

नई दिल्ली : जियो, रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड की सब्सिडीएरी, और माइक्रोसॉफ्ट ने एक विशिष्ट, व्यापक एवं दीर्घकालिक रणनीतिक साझेदारी की शुरूआत की है। इस साझेदारी का उद्देश्य भारतीय अर्थव्यवस्था एवं समाज के डिजिटल रूपांतरण को बढ़ावा देना है। इस 10-वर्षीय अनुबंध में दोनों कंपनियों की विश्व-स्तरीय क्षमताओं को शामिल किया गया है, ताकि समाधानों के एक विस्तृत सेट की पेशकश की जा सके। इनमें कनेक्टिविटी, कम्यूटिंग, स्टो‍रेज सॉल्युशन्स और अन्य टेक्नोलॉजी सर्विसेज एवं भारतीय व्यावसायों के लिए आवश्यक एप्लीकेशन्स शामिल हैं और यह रिलायंस के मौजूदा और नए व्यवसायों सहित व्यापक इकोसिस्टम तक विस्तारित होगा।

संयुक्त प्रयासों में जियो और माइक्रोसॉफ्ट का उद्देश्य डेटा एनालिटिक्स, एआई, कॉग्निटिव सर्विसेज, ब्लॉ‍कचेन, इंटरनेट ऑफ थिंग्स और छोटे एवं मध्यमवर्गीय एन्टरप्राइजेज के बीच एज कम्यूटिंग जैसी प्रमुख तकनीकों को अपनाना और बेहतर बनाना है, ताकि उन्हें प्रतिस्पर्धा करने एवं विकसित होने में सक्षम बनाया जा सके। इसके साथ ही यह भारत में टेक्नोलॉजी लेड जीडीपी ग्रोथ में मदद करेगा और टेक्नोलॉजी के अडाप्शन को बढ़ावा देगा।

नए समझौते में क्या है
1. जियो अपने आंतरिक श्रमबल को क्लाउड आधारित उत्पादकता एवं माइक्रोसॉफ्ट 365 के साथ उपलब्धि कोलैबोरेशन टूल्स उपलब्ध कराएगा और अपने नॉन-नेटवर्क एप्लीकेशन्स‍ को माइक्रोसॉफ्ट क्लारड प्लेटफॉर्म पर माइग्रेट करेगा।
2. जियो का कनेक्टिविटी इंफ्रास्ट्रक्चर, जिसका लक्ष्य हर व्यक्ति, हर चीज को हर जगह कनेक्ट करना है, अपने क्लाउड फर्स्ट रणनीति के तहत स्टार्ट-अप के अपने बढ़ते इकोसिस्टम में माइक्रोसॉफ्ट एज्योर क्लाउड प्लेटफॉर्म के अडाप्शन को बढ़ावा देगा।
3. जियो पूरे भारत में विभिन्न स्थानों पर डेटा सेंटर्स स्थापित करेगी, जिसमें जेनरेशन कम्यूस्ट, स्टोरेज और नेटवर्किंग दक्षताएं मौजूद होंगी और माइक्रोसॉफ्ट द्वारा जियो की पेशकशों को सपोर्ट करने के लिए इन डेटासेंटर्स में इसके एज्योर प्लेटफॉर्म को डिप्लॉइ किया जाएगा।

7.5 मेगावाट तक के पावर की खपत करने वाले आइटी इक्विपमेंट को रखने वाले शुरूआती दो डेटा सेंटर्स की स्था्पना गुजरात एवं महाराष्ट्र में की जा रही है, जिनका पूर्ण परिचालन 2020 में शुरू करने का लक्ष्य रखा गया है।
4. जियो द्वारा भारतीय व्यावसायों की जरूरतों पर केन्द्रित इनोवेटिव क्लाउड समाधानों को विकसित करने के लिए माइक्रोसॉफ्ट एज्योर क्लाउड प्लेटफॉर्म का लाभ उठाया जाएगा।
5. जियो भारतीय ग्राहकों के लिए माइक्रोसॉफ्ट के साथ ऐसे समाधानों को विकसित करेगा, जो भारतीय भाषाओं एवं बोलियों को सपोर्ट करते हैं। इससे भारतीय समाज के विभिन्न वर्गों में टेक्नोलॉजी को अपनाने में मदद मिलेगी।

रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टगर मुकेश अंबानी ने कहा कि कि सभी भारतीयों को तकनीक का इस्तेमाल करने में सक्षम बनाने के हमारे प्रयासों में माइक्रोसॉफ्ट के साथ साझेदारी कर जियो को बेहद खुशी हो रही है। यह एक अनूठी और अपनी तरह की पहली साझेदारी है, जो दो बड़ी कंपिनयों की दक्षताओं को एक साथ लेकर आ रही है, जिनका फोकस छोटे एवं बड़े भारतीय उपक्रमों के‍ लिये उल्लेनखनीय मूल्य निर्माण करने पर है। जियो के विश्वस्तरीय डिजिटल इंफ्रास्ट्रक्चर और माइक्रोसॉफ्ट के एज्योर क्ला‍उड प्लेटफॉर्म की मदद से नवोन्मेषी और वहनीय क्लाउड-समर्थ डिजिटल सॉल्युशन्स को विकसित करने के लिए एक साथ काम करने से भारतीय अर्थव्यवस्था के डिजिटलीकरण को बढ़ावा मिलेगा और यह भारतीय बिजनेस को दुनिया भर में प्रतिस्पर्धी बनाएगा।

माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ सत्यत नाडेला ने कहा कि पूरे भारत में संगठनों में नवाचार एवं विकास में के लिए तकनीक में सुधारों को लागू करने का हमारे पास एक बेहतरीन अवसर है। जियो की अग्रणी कनेक्टिविटी एवं डिजिटल समाधानों को एज्योर, एआइ और ऑफिस 365 के साथ मिलाने से देश भर में लाखों व्यावसायों को संगणना, भंडारण, उत्पादकता तथा अन्य कार्यों के लिए शक्तिशाली साधान और प्लेटफार्म उपलब्ध होंगे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अच्छे संबंधों के लिए रिश्ते में बोरियत भी जरूरी है : एक्सपर्ट

नई दिल्ली : लोगों को अक्सर लगता है कि लंबे समय तक अफेयर और शादी के बाद कुछ चीजें मिसिंग है, जो शुरू में कपल्स आगे पढ़ें »

अमेरिका का बजट घाटा एक हजार अरब डॉलर के पार !

बजट कार्यालय ने व्यक्त किया अनुमान वाशिंगटनः अगले वित्त वर्ष में अमेरिका का बजट घाटा एक हजार अरब डॉलर के पार जाने की आशंका है। यह आगे पढ़ें »

ऊपर