जलमार्ग से इस देश से व्यापार हुआ शुरू, कोलकाता के बाद वाराणसी से भी जोड़ा जाएगा

नई दिल्ली : बांग्लादेश के साथ हुए करार के कारण भारत सरकार ने नार्थ ईस्ट में दो नए पोर्ट चटोग्राम और मोंगला पोर्ट या बंदरगाह चालू कर दिए हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना के बीच हाल में हुए समझौते के कारण कोलकाता और नार्थ ईस्ट स्थित त्रिपुरा के बीच जल मार्ग के जरिये माल ढुलाई और क्रूज टूरिज़म संभव हुआ है।

इसके बाद पश्चिम बंगाल में चटोग्राम और मोंगला पोर्ट से पहले कोलकाता से त्रिपुरा की दूरी सड़क मार्ग से करीब 2000 किमी की थी, लेकिन अब ये पोर्ट चालू होने के बाद दूरी घटकर महज 250 किमी रह जाएगी। कोलकाता से चटोग्राम पोर्ट और फिर चटोग्राम पोर्ट से जल मार्ग के जरिये त्रिपुरा के नज़दीक श्रीमंतपुर पोर्ट तक की दूरी अब सिर्फ 600 किमी की ही रह जायेगी। चटोग्राम और मोंगला पोर्ट को लेकर भारत सरकार ने बांग्लादेश सरकार के साथ स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर करार किया है। यह इसलिए कि ये जलमार्ग बांग्लादेश होते हुए नार्थ ईस्ट को भारत से जोड़ता है।

इस जलमार्ग के विकसित होने से कई फायदे हुए हैं, एक तो मालभाड़े की ढुलाई पहले के मुकाबले काफी कम समय और लागत में संभव हो पाएगी। उसके अलावा नार्थ ईस्ट में इंफ्रा बढ़ावा के लिए ज़रूरी इक्विपमेंट की सप्लाई भी जलमार्ग के जरिये आसान हो सकेगी। सरकार जल्द ही इस जल मार्ग पर क्रूज टूरिज्म भी शुरू करेगी। शिपिंग मंत्रालय ने हाल ही में एक बयान में कहा कि अक्टूबर के अंत तक कोलकाता से ढाका और ढाका से नार्थ ईस्ट जल मार्ग पर क्रूज चलाया जाएगा, यह वाराणसी तक भी चलाने की योजना है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

Congress not accepting tejasvi's leadership

नीतीश कुमार ने जनता से किया विश्वासघात : तेजस्वी यादव

पटना : बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव ने मंगलवार को कहा कि मुख्यमंत्री एवं जनता दल (यूनाइटेड) के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश आगे पढ़ें »

Sushil Modi statement about Narco Test

जदयू समेत कई दलों के सहयोग से लोकसभा में पारित हुआ नागरिकता संशोधन बिल : सुशील कुमार मोदी

पटना : बिहार के उपमुख्यमंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी ने मंगलवार को कहा कि जनता दल (यूनाइटेड) , बीजू आगे पढ़ें »

ऊपर