चीन से आयातित डेयरी उत्पादों में मेलामीन की आशंका, आयात पर रोक की समय सीमा बढ़ी

नई दिल्ली : चीन से आयात होने वाले चॉकलेट, दूध और इसके उत्पादों के आयात पर रोक बढ़ा दिया गया है। चीन से आयात होने वाले डेयरी प्रोडक्ट के आयात पर रोक अब बंदरगाहों पर स्थित प्रयोगशालाओं में जहरीले रसायन मेलामीन का परीक्षण करने की सुविधा उपलब्ध होने तक जारी रहेगी। खाद्य क्षेत्र के नियामक एएसएसएआई ने चीन से दूध उत्पादों के आयात पर लगाई गई रोक को बंदरगाहों पर स्थिति प्रयोग शालाओं को आधुनिक बनाये जाने तक बढ़ाने की सिफारिश की थी।

आपको बता दें कि इससे पहले चीन से डेयरी प्रोडक्ट के आयात पर सबसे पहले सितंबर 2008 में रोक लगाई गई थी। इस रोक को कई बार आगे बढ़ाया गया। सरकार द्वारा लगाई गई इस रोक की आखिरी समयसीमा मंगलवार (23 अप्रैल 2019) को समाप्त हो रही थी, लेकिन इस रोक को आगे बढ़ा दिया गया है। विदेश व्यापार महानिदेशालय (डीजीएफटी) ने एक अधिसूचना में कहा है कि चीन से चॉकलेट, चॉकलेट उत्पादों, कैंडीज, कन्फैक्शनरी, दूध और दूध उत्पादों से तैयार खाद्य सामग्री के आयात पर लगी रोक तब तक जारी रहेगी, जब तक कि ऐसी सामग्री के देश में प्रवेश वाले बंदरगाहों पर स्थित प्रयोगशालाओं को मेलामीन जैसे रसायन का परीक्षण करने के लिए अद्यतन नहीं बना दिया जाता है।

हालांकि, ये प्रयोगशालाओं कब तक बन पाएंगे अभी इसकी कोई जानकारी नहीं है। चीन से निर्यात होने वाले डेयरी प्रोडक्ट में मेलामीन रसायन की आशंका के बाद रोक लगा दी गई थी। मेलामीन एक खतरनाक जहरीला रसायन है, जिसका इस्तेमाल प्लास्टिक और उर्वरक बनाने में किया जाता है।

खाद्य क्षेत्र के नियामक एफएसएसएआई ने बयान में कहा कि चीन से दूध और दूध से बने उत्पादों पर लगाई गई रोक को तब तक बढ़ाने की सिफारिश की थी जब तक कि बंदरगाहों की प्रयोगशालाओं में खतरनाक रसायन के परीक्षण की सुविधा उपलब्ध नहीं हो जाती है। सरकार ने इस सिफारिश को मानते हुये रोक की समयसीमा तब तक के लिए बढ़ा दी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

मैच फीट के लिए चार चरण में अभ्यास करेंगे भारतीय क्रिकेटर : कोच श्रीधर

नयी दिल्ली : भारत के क्षेत्ररक्षण कोच आर श्रीधर का कहना है कि देश के शीर्ष क्रिकेटरों के लिए चार चरण का अभ्यास कार्यक्रम तैयार आगे पढ़ें »

नस्लभेद के खिलाफ आवाज बुलंद करे आईसीसी : सैमी

नयी दिल्ली : वेस्टइंडीज के पूर्व टी-20 कप्तान डेरेन सैमी ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) और अन्य क्रिकेट बोर्डों से नस्लभेद के खिलाफ आवाज बुलंद आगे पढ़ें »

ऊपर