चीन के साथ व्यापार को संतुलित करने के लिए निर्यात बढ़ाने, आयात निर्भरता में कमी की बात:वाणिज्य मंत्रालय

नयी दिल्ली: वाणिज्य मंत्रालय के एक रणनीतिक दस्तावेज में चीन के साथ व्यापारिक असंतुलन को दूर करने के लिए निर्यात बढ़ाने और आयात निर्भरता में कमी लाने जैसे कदम सुझाए गए हैं। इसके अलावा चीन से अपने विनिर्माण केंद्र हटाने की इच्छुक कंपनियों को आकर्षित करने की बात भी कही गयी है। मंत्रालय द्वारा तैयार रणनीतिक पत्र को वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री सुरेश प्रभु को सौंपा गया था।
09.44 अरब डॉलर कम हुआ व्यापार घाटा

प्रभु द्वारा उठाये गए कदमों से पहले ही चीन के साथ व्यापार घाटा (निर्यात और आयात में अंतर) वित्त वर्ष 2018-19 में कम होकर 53.56 अरब डॉलर रह गया। वित्त वर्ष 2017-18 में व्यापार घाटा 63 अरब डॉलर था।चीन में निर्यात को बढ़ावा देने के लिए पत्र में उचित निर्यात पहल का सुझाव दिया गया है। पत्र में कहा गया है, ‘क्षेत्रीय समग्र आर्थिक भागीदारी (आरसीईपी) के जरिए शुल्क में कमी के माध्यम से निर्यातकों को समर्थन देकर और भारत से वस्तु निर्यात योजना (एमईआईएस) की जगह पर उचित निर्यात प्रोत्साहन के जरिए इस दिशा में कोशिश की जा सकती है।’ उसमें कहा गया है कि कृषि, डेयरी उत्पादों और दवा क्षेत्र तक बाजार की पहुंच को बढ़ाने के लिए मंत्रालय को कड़ी मेहनत करने की आवश्यकता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

कृषि क्षेत्र में बिहार का मॉडल सर्वश्रेष्ठ : जदयू

पटना : बिहार में सत्तारूढ़ जनता दल (यूनाइटेड) ने शुक्रवार को दावा किया कि कृषि क्षेत्र में राज्य का मॉडल सर्वश्रेष्ठ है। जदयू प्रवक्ता राजीव रंजन आगे पढ़ें »

The country has changed, good days have come: JP Nadda

जेपी नड्डा का शनिवार को बिहार दौरा 

पटना : भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष की जिम्मेदारी संभालने के बाद पहली बार शनिवार को बिहार के एक दिवसीय दौरे पर आ रहे आगे पढ़ें »

ऊपर