चालू वित्त वर्ष के लिए भारत की इकोनॉमिक ग्रोथ 6.6 फीसद रहने का अनुमान

नई दिल्ली : चालू वित्त वर्ष के लिए भारत की इकोनॉमिक ग्रोथ 6.6 फीसद रहने का अनुमान है, जोकि पिछले साल के 6.8 फीसद से कम है। रेटिंग एजेंसी फिच का कहना है कि भारत के पास उच्च कर्ज होने के कारण राजकोषीय नीतियों को सरल करने की गुंजाइश सीमित है। फिच ने कहा है कि अगले साल अर्थव्यवस्था में सुधार आने की उम्मीद है। एजेंसी का कहना है कि भारत की जीडीपी ग्रोथ अगले साल बेहतर होकर 7.1 फीसद पर आ सकती है।

एजेंसी ने कहा है कि भारत की जीडीपी ग्रोथ में लगातार पांचवी तिमाही में कमी आई है। एजेंसी ने कहा कि अप्रैल-जून तिमाही में जीडीपी ग्रोथ 5 फीसद रही, जो कि छह सालों की न्यूनतम है। रेटिंग एजेंसी फिच ने कहा कि घरेलू मांग में कमी आ रही है, निजी खपत और निवेश दोनों में कमी आ रही है वहीं, वैश्विक ट्रेड एनवायर्नमेंट भी कमजोर है।

इसके अलावा, फिच ने कहा है कि मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर सिर्फ 0.6 फीसद से विकास कर रहा है। यहां उच्च सार्वजनिक ऋण देने के कारण राजकोषीय नीतियों को सरल करने की गुंजाइश कम है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

प्राकृतिक आपदा पर राजनीति न हो – धनखड़

चक्रवात प्रभावित इलाकों के हालात की करेंगे समीक्षा सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : राज्य सरकार और राज्यपाल के बीच गतिरोध थमने का नाम नहीं ले रहा है। इसी आगे पढ़ें »

9 साल बाद फिर प्रेसिडेंसी में चला ‘लाल’ का जादू

आईसी हुई छात्र संघ की सत्ता से बेदखल सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : प्रेसिडेंसी यूनिवर्सिटी में 2019 के छात्र संघ चुनाव में 9 साल बाद भारी मतों से आगे पढ़ें »

ऊपर