गलत पैन या आधार नंबर भरा तो लग सकता है जुर्माना

नई दिल्ली : फॉर्म भरने के लिए पैन नंबर की जरूरत होती है, लेकिन आप पैन नंबर सावधानी भरें। आयकर अधिनियम 1961 की धारा 272 बी के तहत, आयकर विभाग गलत पैन नंबर देने पर 10,000 का जुर्माना लगा सकता है। यह नियम आयकर रिटर्न ( आईटीआर ) दाखिल करने के दौरान लागू होता है या अन्य मामलों में अपने पैन की डिटेल दे रहे होते हैं, जहां इसका जिक्र करना अनिवार्य है।

आयकर विभाग के पास कम से कम 20 ऐसे मामलों की लिस्ट है, जहां पैन नंबर देना अनिवार्य है। मसलन बैंक खाता खोलने पर, गाड़ी खरीदने या बेचने पर, म्यूचुअल फंड खरीदने पर, शेयर, डिबेंचर, बॉन्ड आदि की खरीदारी पर पैन देना अनिवार्य है। आपको बता दें कि एक बार पैन कार्ड मिलने पर आप दोबारा आवेदन नहीं कर सकते हैं, एक बार बना हुआ पैन जीवनभर वैध रहता है।

बैंक पैन कार्ड की फोटोकॉपी मांगते हैं, भले ही आपने अनजाने में फॉर्म में गलत नंबर दिया हो, बैंक हमेशा फोटोकॉपी के साथ इसे सत्यापित कर सकता है। यदि आपको पैन याद नहीं है, तो आप आधार कार्ड नंबर भी दे सकते हैं, क्योंकि दोनों दस्तावेज जरूरी हैं। आधार नंबर भी यदि आपने गलत दिया है तो आप पर 10,000 रुपये का जुर्माना लग सकता है। लेनदेन में पैन या आधार नंबर का जिक्र नहीं करने पर भी जुर्माना लगाया जा सकता है।

दो पैन कार्ड हो तो
कोई भी व्यक्ति एक से ज्यादा पैन नहीं रख सकता। आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 272 बी के तहत दो पैन होने पर आप पर 10,000 रुपये का जुर्माना लग सकता है। आपके पास दो पैन कार्ड है तो एक को जल्द से जल्द लौटा दें। पैन आधार से लिंक नहीं है, तो उन्हें 31 दिसंबर के बाद आयकर विभाग द्वारा अवैध घोषित किए जाने की संभावना है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अध्यापिका के पद से बैशाखी का इस्तीफा

कोलकाता : मिली अल-अमीन कॉलेज की अध्यापिका के पद से बैशाखी बंद्योपाध्याय ने इस्तीफा दे दिया है। गुरुवार को शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी को मेल आगे पढ़ें »

33वां मूर्ति देवी पुरस्कार से सम्मानित किए जाएंगे कवि डॉ. विश्वनाथ प्रसाद तिवारी

नयी दिल्ली : साहित्य अकादमी के पूर्व अध्यक्ष और जाने माने कवि-आलोचक डॉ. विश्वनाथ प्रसाद तिवारी को प्रतिष्ठित 33वें मूर्तिदेवी पुरस्कार के लिए चुना गया आगे पढ़ें »

ऊपर