कैशलेस अर्थव्यवस्था के लिए आरबीआई ने जारी किया विजन दस्तावेज

नई दिल्ली : कम नकदी वाली अर्थव्यवस्था के लक्ष्य को ध्यान में रखते हुये भारतीय रिजर्व बैंक ने सुरक्षित, सुविधाजनक, तेज और सस्ती ई-भुगतान प्रणाली को लेकर एक विजन दस्तावेज जारी किया है, यह दस्तावेज आने वाले दो सालों में आनलाइन भुगतान प्रणाली में भारी वृद्धि को ध्यान में रखते हुये जारी किया गया है। रिजर्व बैंक को उम्मीद है कि दिसंबर 2021 तक देश में डिजिटल माध्यमों से होने वाला लेनदेन चार गुना से ज्यादा बढ़ेगा और 8,707 करोड़ रुपये तक पहुंच जायेगा।

रिजर्व बैंक ने भारत में भुगतान और निपटान प्रणाली: विजन 2019- 2021 दस्तावेज में ई- भुगतान के अनुभव को बेहतर बनाने और उच्च डिजिटल और कम नकदी वाला समाज बनाने की दिशा में यह कदम उठाया है। रिजर्व बेंक का कहना है कि नये सेवाप्रदाताओं और नये तौर तरीकों के आने से भुगतान प्रणाली में लगातार बदलाव जारी रहेगा। इससे उपभोक्ताओं को बेहतर लागत पर विभिन्न प्रकार के भुगतान प्रणाली के विकल्प उपलब्ध होंगे।

इस विजन दस्तावेज को 2019- 2021 के दौरान अमल में लाया जाएगा। इससे पहले पिछला विजन दस्तावेज 2016 से 2018 के लिये जारी किया गया था। देश में डिजिटल माध्यमों से होने वाला लेनदेन दिसंबर, 2018 के 2,069 करोड़ रुपये से चार गुना से अधिक बढ़कर दिसंबर 2021 तक 8,707 करोड़ रुपये तक पहुंच जाने का अनुमान है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

भारतीय गेंदबाजी में किसी भी टीम को सस्ते में समेटने की काबिलियत : स्वान

कोलकाता : इंग्लैंड के पूर्व ऑफ स्पिनर ग्रीम स्वान ने बुधवार को कहा कि जसप्रीत बुमराह की अगुआई वाला भारतीय गेंदबाजी आक्रमण किसी भी टीम आगे पढ़ें »

ब्लैकवुड का आरोप, इंग्लिश टीम स्लेजिंग कर रही थी

मैनचेस्टर : पहले टेस्ट में वेस्टइंडीज की जीत में अहम भूमिका निभाने वालों में शामिल रहे बल्लेबाज जर्मेन ब्लैकवुड ने कहा है कि उनकी मैच आगे पढ़ें »

ऊपर