देशभर के व्यापारियों की जनसंख्या रजिस्टर बनाएगा कैट: उद्योग मंत्री ने दिया सुझाव

piyush goyal

नई दिल्ली : कॉन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) देशभर के सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के व्यापारियों एवं उनके यहां कार्यरत कर्मचारियों का एक डेटा तैयार करेगा, जिससे देशभर के व्यापारियों की बुनियादी समस्याओं को बेहतर तरीके से सरकार के सामने रखा जाए और सरकार उस डेटा के आधार पर व्यापारी वर्ग के लिए नीतियां बना सके।

उद्योग मंत्री पियूष गोयल ने दिया सुझाव 

कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष बीसी भरतिया ने बताया कि यह अभियान केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पियूष गोयल के उस सुझाव पर तैयार करने का निर्णय लिया है जो उन्होंने 27 जनवरी को दिल्ली में कैट द्वारा आयोजित एक व्यापारी सम्मेलन में दिया था। कैट ने कहा कि गोयल का सुझाव बेहद तार्किक है और देश के रिटेल व्यापार के लिए केंद्र एवं अन्य राज्यों में सरकारों से सुविधाओं के अधिकार को मांगने एवं व्यापार के लिए समर्थन नीति बनवाने में इस डेटा का बहुत महत्व होगा। कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष बीसी भरतिया ने बताया कि एनएसएसओ के एक सर्वे के मुताबिक देश में लगभग 7 करोड़ छोटे व्यवसाय है और ये लगभग 45 करोड़ लोगों को रोज़गार देते हैं तथा प्रतिवर्ष लगभग 45 लाख करोड़ रुपये का व्यापार करते हैं।

एसएमबी के विकास में मदद करेग माइक्रोसॉफ्ट

रिटेल व्यापार के लिए अलग से मंत्रालय की करेगा मांग 

देश की अर्तव्यवस्था के इतने महत्वपूर्ण सेक्टर के लिए आज तक किसी भी सरकार ने इसका डेटा तैयार करने के लिए कदम नहीं उठाया। रिटेल सेक्टर से जुड़े सभी अन्य वर्गों के लिए अलग से नीति भी है और मंत्रालय भी है, लेकिन रिटेल व्यापार के लिए न कोई नीति है ना कोई मंत्रालय है। इस डेटा के तैयार होने के बाद कैट बेहद मजबूती के साथ अलग से एक मंत्रालय गठित करने की मांग करेगा। कैट के महामंत्री खंडेलवाल ने बताया कि राष्ट्रीय व्यापारी जनसंख्या अभियान 1 मार्च से शुरू होगा और 30 सितम्बर तक देश भर में चलेगा। कैट व्यापारियों के विवरण को एकत्र करने के लिए एक मोबाइल एप बनाएगी, जिसके जरिए देशभर के व्यापारी अपना विवरण उसमें दर्ज कर सकेंगे।

स्टार्टअप कंपनियों को नहीं मिलना चाहिए दूसरा- तीसरा मौका : टाटा

यह अभियान देश भर में फैले 40 हजार से ज्यादा व्यापारी संगठनों की मदद से चलाया जाएगा। इस डेटा में व्यापारी प्रतिष्ठान का नाम, मालिक का नाम , परिवार में लोगों की संख्या, पता, फोन नंबर, मोबाइल नंबर, किस वस्तु का व्यापार है, वेबसाइट एवं ई मेल पता, कितने कर्मचारी काम करते हैं और कितने लोग उनके परिवार में हैं आदि विवरण माँगा जाएगा और यह सारा डेटा बेहद गोपनीय रहेगा और आवश्यकतानुसार कैट इसका इस्तेमाल कर सकेगी। इस डेटा से जहां देश में कुल कितने व्यापारी है, कितने लोगों को रोजगार देते हैं, कितना कारोबार करते हैं, किस वस्तु में देश भर में कितने व्यापारी व्यापार में संलग्न है आदि का पूरा डेटा रहेगा । मोबाइल एप के अलावा कैट देश के विभिन्न शहरों में डाटा एकत्र करने के लिए बड़ी संख्यां में लोगों को भी नियुक्त करेगा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

कोविड-19 : रीजिजू ने खिलाड़ियों को व्यस्त रखने की पहल की समीक्षा की

नयी दिल्ली : खेल मंत्री किरेन रीजीजू ने कोविड-19 महामारी के कारण 21 दिन के लॉकडाउन (राष्ट्रव्यापी बंद) के मद्देनजर मंत्रालय और भारतीय खेल प्राधिकरण आगे पढ़ें »

प्रतिभा तलाशना मेरा काम था, युवा विराट कोहली में गजब की प्रतिभा थी : वेंगसरकर

नयी दिल्ली : दिलीप वेंगसरकर को प्रतिभाओं को तलाशने के मामले में भारत के सबसे अच्छे चयनकर्ताओं में से एक माना जाता है जिन्होंने पहली आगे पढ़ें »

ऊपर