कम हो जाएंगे 2000 रुपए का नोट, जानिए क्या है कारण

नई दिल्ली : 2000 रुपए का नोट माना जा रहा है कि बंद हो जाएगा, हालांकि यह एक अफवाह है। 2000 रुपए के नोट बंद होने नहीं होंगे। दरअसल एटीएम से 2000 रुपए के नोटों को कम किया जा रहा है। इसकी शुरुआत एसबीआई ने की है। बैंक छोटे शहरों में एटीएम से 2000 रुपए के नोट कम रहा है और उसकी जगह छोटे नोटों को एटीएम में डाला जाएगा। आगे 2000 रुपए के नोट बाजार से कम होते जाएंगे।

आरबीआई के निर्देश के बाद एसबीआई ने एटीएम से 2000 रुपए के नोट की निकासी को कम किया है और धीरे धीरे नोटों को कम किया जाएगा। हालांकि 2000 रुपए का नोट बंद नहीं होगा। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया धीरे-धीरे 2000 रुपए के नोट का संचालन कम कर रहा है। एसबीआई ने छोटे शहरों और कस्बों के एटीएम में से 2000 रुपए के नोट रखने के स्लॉट (कैसेट) हटाना शुरू कर दिया है। हालांकि, बड़े शहरों में अभी एटीएम से 2000 रुपए के नोट मिलेंगे, लेकिन बड़े शहरों में भी 2000 रुपए के स्लॉट की जगह 100 रुपए, 200 रुपए और 500 रुपए के नोटों की संख्या एटीएम में बढ़ाए जाएंगे।

क्यों 2000 रुपए के नोट होंगे कम
एटीएम से 2000 रुपए का नोट का चेंज होना मुश्किल होता है। एक बैंक अधिकारी के मुताबिक तकरीबन एक साल से 2000 रुपए का नए नोट एटीएम में नहीं डाले जा रहे हैं।

छपाई में भी आई है कमी
दरअसल मोदी सरकार 2000 के नोटों को कम करना चाहती है। मार्च 2017 के अंत तक 328.5 करोड़ 2000 रुपए के नोट छापे गए थे, जबकि मार्च 2018 यानी 1 साल में इसमें मामूली बढ़ोत्तरी हुई और 2000 के कुल नोटों की संख्या 336. 3 करोड़ पहुंची। वहीँ आरबीआई ने 2000 के नोटों की छपाई बंद कर दी है। नवंबर 2018 में डाली गई एक आरटीआई से भी ये पता चला था कि नासिक करंसी नोट प्रेस को 2000 रुपए के नोट छापने के आदेश नहीं मिला है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अम्फान रिलीफ फंड : आर्थिक सहायता व रिकंस्ट्रक्शन के लिए 6250 करोड़ रु.

अम्फान से मरने वालों की संख्या हुई 98 सबिता राय, कोलकाता : अम्फान चक्रवात के प्रभावित लोगों के लिए आर्थिक सहायता तथा रीकंस्ट्रकशन कार्य के लिए आगे पढ़ें »

nadda

उपलब्धियों और निर्णायक फैसले से भरा रहा मोदी 2.0 का पहला साल : नड्डा

नयी दिल्ली : भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा ने शनिवार को कहा कि मोदी सरकार का दूसरा कार्यकाल ऐतिहासिक उपलब्धियों से भरा रहा और इस आगे पढ़ें »

ऊपर