एसएमबी के विकास में मदद करेग माइक्रोसॉफ्ट

नई दिल्ली : देश में लघु एवं मध्यम व्यवसायों को आगे बढ़ाने के लिए माइक्रोसॉफ्ट ने इन तक अपनी क्लाउड सेवाएं पहुंचाने की गति को तेज किया है। भारत में 60 मिलियन से ज्यादा छोटे मध्यम उद्यम हैं और ये छोटे मध्यम उद्योग राष्ट्रीय आर्थिक संरचना की बुनियाद हैं।

देश में छोटे मध्यम उद्योग लगभग 120 मिलियन लोगों को रोजगार मुहैया कराते हैं और भारत से होने वाले कुल निर्यात में इनका योगदान तकरीबन 45% है। मोबाइल कंप्यूटिंग और बेहतर कनेक्टिविटी के विकास के साथ छोटे मध्यम उद्योग अपनी प्रोडक्टिविटी बढ़ाने, कारोबार की क्षमता एवं ग्राहकों से जुड़ाव को बेहतर बनाने, तथा अपने उत्पादों एवं सेवाओं में नई खोज को बढ़ावा देने के लिए क्लाउड सेवाओं का भरपूर फायदा उठा रहे हैं।

स्टार्टअप कंपनियों को नहीं मिलना चाहिए दूसरा- तीसरा मौका : टाटा

शोध संस्था गार्टनर के पूर्वानुमानों के अनुसार वर्ष 2020 के अंत तक क्लाउड 80% से ज्यादा उद्यमों के कामकाज का बोझ संभालेंगे। छोटे मध्यम उद्योग द्वारा क्लाउड सेवाओं को अपनाए जाने के कई कारण हैं, जिनमें अपने राजस्व को बढ़ाना, लागत में बचत करना, बेहतर सुरक्षा, अपने प्रोडक्ट व सेवाओं की अहमियत बढ़ाना तथा किसी भी स्थान से कभी भी दस्तावेजों और एप्लीकेशन तक पहुंचने में सक्षम होना शामिल है।

कम भुगतान करें, ज्यादा लाभ पाएं
व्यापार  के किसी भी हिस्से को अपनी शर्तों और अपनी समय-सीमा के अनुसार क्लाउड पर संचालित करने वाले छोटे मध्यम उद्योग लागत में बड़ी बचत का अनुभव कर सकते हैं।  सुविधाजनक तरीके से आधुनिकीकरण और विस्तार अपनी सुविधा के अनुसार क्लाउड क्षमताओं को बढ़ाना, देख-रेख की जरूरत को समाप्त करना, बेजोड़ सुरक्षा और कारोबार में निरंतरता, सिक्योरिटी से जुड़े बिल्कुल नए अपडेट और विभिन्न प्रकार के खतरों एवं रैंसमवेयर से सुरक्षित रखेगा।

बजट में मिल सकता है रियल एस्टेट क्षेत्र को बड़ी राहत

क्लाउड कंप्यूटिंग की टेक्नोलॉजी अत्याधुनिक होने के साथ-साथ बेहद किफायती भी हैं और इन्हें अपने कारोबार में शामिल करना और इस्तेमाल करना भी बेहद आसान है। इस तरह से लघु मध्यम उद्योग को आईटी सेवाओं के इस्तेमाल करने के अपने तरीके में बदलाव लाने का अवसर मिलता है और बदले में उनकी परिचालन क्षमता और प्रोडक्टिविटी में सुधार होती है और इसके परिणामस्वरूप उन्हें ज्यादा लाभ मिलता है तथा उनका विकास होता है। क्लाउड कंप्यूटिंग की वजह से आईटी पर होने वाले खर्चों का अनुमान लगाना संभव हुआ है तथा इसके लिए बहुत ज्यादा पूंजी की जरूरत नहीं होती है, जिससे छोटे मध्यम उद्योग के आईटी इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए क्लाउड सबसे ज्यादा जरूरी बन गया है।

माइक्रोसॉफ्ट भारत के टियर I, II और III श्रेणी के शहरों में छोटे मध्यम उद्यमों को क्लाउड की मदद से पहले से ज्यादा प्रभावशाली बना रहा है, ताकि उनकी उत्पादकता बढ़ाई जा सके। माइक्रोसॉफ्ट ने कहा कि भारत के 250 शहरों में मौजूद 9500 से अधिक भागीदारों वाले बेहद मजबूत इकोसिस्टम से हमें छोटे मध्यम उद्यम से जुड़ने में मदद मिली है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

आरएसएस प्रमुख की समझदारी पर सोनम ने उठाए सवाल, हुईं ट्रोल

नई दिल्ली : आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत द्वारा तलाक को लेकर दिए गए बयान को फिल्म अभिनेत्री सोनम कपूर ने मूखर्तापूर्ण बताया है। सोनम ने आगे पढ़ें »

modis

मोदी और शाह को ‘आतंकवादी’ कहने पर मुस्लिम नेता के खिलाफ मामला दर्ज

सम्भल (उत्तर प्रदेश) : उत्तर प्रदेश में सम्भल जिले के नखासा क्षेत्र में संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) के विरोध में आगे पढ़ें »

ऊपर