एसएटीटीटीई दिल्ली, 2020 में सिंगापुर पर्यटन बोर्ड लेगा हिस्सा, इन क्षेत्रों में मिलकर करेंगे काम

नई दिल्ली: चेन्नई में एक सफल रोड शो के बाद, सिंगापुर टूरिज्म बोर्ड (एसटीबी) ने एसएटीटीई दिल्ली 2020 में भाग लेकर इस वर्ष के लिए अपनी यात्रा व्यापार पहुंच को बढ़ाना जारी रखा है। थीम ग्रोइंग कनेक्शन्स, अचीविंग टुगेदर के आधार पर इस व्यापार जुड़ाव का उद्देश्य एसटीबी और पर्यटन हितधारकों की मौजूदा साझेदारी को गहरा करना और स्थानीय ट्रेवल बिजनेस बिरादरी के साथ नए लोगों को बढ़ावा देना है।

प्रधानमंत्री ने उद्योगों और अर्थशास्त्रियों से आगामी बजट को लेकर बैठक की

ट्रेड शो के दौरान एसटीबी सिंगापुर को कुछ इस तरह पेश कर रहा हैर, पैशन मेड पॉसिबल पैवेलियन, जहां एमआईसीई और क्रूज के लिए अपने प्लान को प्रस्तुत करते हुए विकास के अवसरों को बढ़ाने में पर्यटन क्षेत्र के साथ-साथ सिंगापुर के पर्यटन परिदृश्य में नवीनतम और आगामी डवलपमेंट पेश कर रहा है। जैसे मरीना बे सैंड्स एंड रिसॉर्ट्स वर्ल्ड के लिए विस्तार योजनाएं, एक लैंडमार्क मास्टर प्लान के हिस्से के रूप में पुलाउब्रानी के साथ मिलकर सेंटोसा का पुनर्विकास और ईको-टूरिज्म हब का विकास। एसटीबी ने 2020 में भारत के बाजार के लिए दो नए फोकस क्षेत्रों का खुलासा किया, अंतरराष्ट्रीय विवाह गंतव्य के रूप में और ओवरसीज स्कूल ट्रिप (ओएसटी) के लिए सिंगापुर को आकर्षण के रूप में स्थापित करना।

बिल्डर तय समय में नहीं करते पूरा प्रोजक्ट तो बैंक लौटाएगी ग्राहकों को मूल राशि

जीबी श्रीधर ने सिंगापुर को भारतीय यात्रियों की पसंद के गंतव्य के रूप में प्रदर्शित करने के एसटीबी के प्रयासों के बारे में बात करते हुए कहा कि भारत, सिंगापुर के लिए तीसरा सबसे महत्वपूर्ण विजिटर अराइवल सोर्स बाजार है और हम ट्रैवल ट्रेड, मीडिया पार्टनरशिप और विभिन्न मार्केटिंग पहलों माध्यम से यात्रियों को लगातार लुभा रहे हैं। चेन्नई में हमारे हाल में आयोजित रोड शो और अब एसएटीटीई दिल्ली 2020 में भागीदारी के साथ हम ट्रैवल ट्रेड में अपने संबंधों को नवीनीकृत करना चाहते हैं। लक्ष्य मौजूदा साझेदारियों को मजबूत करना और रचनात्मक प्रमोशन के माध्यम से नए लोगों को शामिल करने के साथ इस प्रक्रिया में हमारे सिंगापुर के हितधारक और स्थानीय यात्रा व्यापार दोनों के लिए सार्थक परिणाम सुनिश्चित करना हमारा मकसद है। भारत से अधिक से अधिक लोग विदेश भ्रमण के लिए जा रहे हैं और हमें इस वर्ष भी उम्मीद है।

अर्थव्यवस्था को सुस्ती से उबारने के लिए रियल एस्टेट क्षेत्र ने की ये मांग

सिंगापुर ने 2018 में भारत से 1.44 मिलियन आगंतुकों का स्वागत किया, जिससे यह अक्टूबर 2019 के अंत तक सिंगापुर के लिए तीसरा सबसे बड़ा विजिटर अराइवल (वीए) स्रोत बाजार बन गया। सिंगापुर को भारत से 1,190,000 आगंतुक मिले हैं। यह लगातार 5वां वर्ष है, जब सिंगापुर ने अपने विविध पेशकश का अनुभव करने के लिए दस लाख से अधिक भारतीय यात्रियों का स्वागत किया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

मुक्‍केबाज अमित पंघाल और विकास कृष्णन खेल रत्न के लिए नामित

नयी दिल्ली : भारतीय मुक्केबाजी संघ (बीएफआई) ने सोमवार को विश्व चैम्पियनशिप के रजत पदक विजेता अमित पंघाल और अनुभवी विकास कृष्णन को राजीव गांधी आगे पढ़ें »

दबाव में विराट और भी शानदार प्रदर्शन करते हैं : स्टीव स्मिथ

मुंबई : दुनिया के सर्वश्रेष्ठ टेस्ट बल्लेबाजों में से एक स्टीव स्मिथ सीमित ओवरों की क्रिकेट में लक्ष्य का पीछा करते हुए भारतीय कप्तान कोहली आगे पढ़ें »

ऊपर