एल्गा एनर्जी लेकर आएगा प्रमुख एशियन बाजारों के लिए नए कृषि समाधान

नई दिल्ली : एल्गा एनर्जी की पूर्ण-स्वामित्व वाली भारतीय इकाई माइक्रोएल्गाई सॉल्युशंस इंडिया (एमएएसआई) और कृषि रसायन एक्सपोर्ट (केआरईपीएल) की सहयोगी इकाई एग्रोलाइफ साइंसेस कॉरपोरेशन (एएलएससी) ने भारत में 50-50 प्रतिशत की भागीदारी क साथ एक संयुक्त उपक्रम एग्मा एनर्जी प्राइवेट लिमिटेड बनाने की घोषणा की है।

एग्मा एनर्जी को एक फसल कृषि और जलीय कृषि का विश्वस्तरीय व्यवसाय और प्लेटफॉर्म विकसित करने के लिए स्थापित किया गया है, जो बायोलॉजीकल, माइक्रोबियल और रासायनिक आधार पर नए और इनोवेटिव समाधान एवं सेवाएं उपलब्ध कराएगा। एग्मा एनर्जी शुरुआत में भारत के अलावा एशिया और अंतरराष्ट्रीय बाजारों पर ध्यान केंद्रित करेगी। एग्मा एनर्जी की नींव की आधारशिला स्पेन की बायोटेक्नोलॉजी कंपनी एल्गा एनर्जी द्वारा विकसित सूक्ष्म शैवाल पर आधारित अनूठी प्रौद्योगिकियों और उत्पादों पर रखी गई है, जो कई दशकों से फसल कृषि के लिए जैव उर्वरक और जलीय कृषि सहित विभिन्न क्षेत्रों में पशुओं के लिए पोषण उत्पादन सहित विभिन्न प्रकार के बाजारों के लिए प्राकृतिक जैवकि समाधान तैयार कर रही है।

एल्गा एनर्जी के अंतरराष्ट्रीय कृषि व्यवसाय के अध्यक्ष, डगलस रि वैग्नर ने कहा कि एल्गा एनर्जी संयुक्त उद्यम दुनिया के अति महत्वपूर्ण क्षेत्रों में सतत कृषि कार्यक्रमों को विकसित करने में मदद करने के लिए सबसे इनोवेटिव उत्पादों को उपलब्ध कराने के लिए साथ आया है। एल्गा एनर्जी के अध्यक्ष और सीईओ अगस्तो रोड्रीगेज-विला ने कहा कि एल्गा एनर्जी के शेयरधारकों और कर्मचारियों की ओर से मैं कृषि के भविष्य के लिए सामान लक्ष्य पर पूर्ण भरोसा और उसकी प्रशंसा करता हूं, जिसे हमनें कृषि रसायन के अपने सहयोगियों के साथ साझा किया है।
एल्गा एनर्जी की स्थापाना के जरिए दो महान संगठनों को एक साथ लाने से हम दुनिया के कई क्षेत्रों में एल्गा एनर्जी की टेक्नोलॉजी और प्राकृतिक उत्पादों की शक्ति को तेजी पहुंचाने में सक्षम होंगे।

कृषि रसायन के कार्यकारी निदेशक राजेश अग्रवाल ने कहा कि एल्गा एनर्जी और इसकी रोमांचक टेक्नोलॉजी के साथ जुड़ना हमारे लिए खुशी की बात है। एग्मा एनर्जी की स्थापना के साथ हम निश्चित रूप से बायोस्टीमुलैंट क्षेत्र में भारत के साथ ही साथ विश्व स्तर पर एक नई पहचान बनाएंगे। यह संयुक्त उद्यम हमारे किसानों के लिए विभिन्न पर्यावरण अनुकूल फसल देखभाल समाधान उपलब्ध कराएगा और इस प्रकार जैविक कृषि में सुधार लाने की दिशा में यह एक महत्वपूर्ण कदम होगा। केआरईपीएल (कृषि रसायन) और एएलएससी अपने मजबूत किसान आधार और अपने व्यापक घरेलू एवं अंतरराष्ट्रीय वितरक नेटवर्क के जरिए योगदान देगा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

madhya pradesh ats

मध्यप्रदेश में आईएसआई से संबध रखने वाले 5 लोगों को एटीएस ने किया गिरफ्तार

सतना : मध्यप्रदेश में 5 लोगों को पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई से जुड़े होने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। टेरर फ‌ंडिंग के आगे पढ़ें »

ट्रंप

भारत और अन्य देशों को आतंकवादियों से लड़ना ही होगा -ट्रंप

वॉशिंगटन : अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने बुधवार को कहा कि अफगानिस्तान में आतंकवादियों के खिलाफ भारत, ईरान, रूस और तुर्की जैसे देशों को भी आगे पढ़ें »

ऊपर