विदेशी निवेशकों ने बाजार से निकाले 5600 करोड़ रुपये

नयी दिल्लीः पिछले पांच कारोबारी सत्रों में पूंजी बाजार से विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) ने 5,600 करोड़ रुपये की निकासी की है। उन्होंने लगातार इससे पहले दो महीनों में निवेश किया था। डिपॉजिटरी के आंकड़ों के अनुसार तीन से सात सितंबर के बीच एफपीआई ने शेयर बाजार से 1,021 करोड़ रुपये और ऋण बाजार से 4,628 करोड़ रुपये की निकासी की। इस प्रकार कुल निकासी 5,649 करोड़ रुपये की रही। अगस्त में एफपीआई ने 2,300 करोड़ रुपये का निवेश किया था। इससे पहले अप्रैल से जून के बीच विदेशी निवेशकों ने 61,000 करोड़ रुपये की निकासी की थी।
क्या है कारण
ताजा निकासी का अहम कारण बाजार विशेषज्ञों के अनुसार रुपये की कीमत में गिरावट और कच्चे तेल की कीमतों का बढ़ना है। एफपीआई निवेश को लेकर बाजार नियामक सेबी के दिशानिर्देशों से भी बाजार में चिंता का माहौल है। कमजोर वैश्विक बाजारों ने भी इस पर असर डाला है।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

भारत और अर्जेंटीना ने की साझेदारी, 2025 तक 5 ट्रिलियन अमरीकी डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने का लक्ष्य रखा

नई दिल्ली : केंद्रीय वाणिज्य, उद्योग और नागर विमानन मंत्री सुरेश प्रभु ने कहा कि भारत अर्जेंटीना के साथ द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत बनाने का इच्छुक है। यह लैटिन अमेरिकी क्षेत्र में भारत का एक प्रमुख व्यापारिक भागीदार है। नई [Read more...]

रेनो Kwid का इलेक्ट्रिक वर्जन जल्द नजर आएगी भारतीय सड़कों पर

नई दिल्ली : सरकार कि योजना 2030 तक डीजल पेट्रोल गाड़ियों को बंद कर इलेक्ट्रिक वाहनों को लाने की है। इसे देखते हुए जल्द ही रेनो अपनी लोकप्रिय हैचबैक कार का इलेक्ट्रिक वर्जन भारतीय बाजार में उतार सकती है। रेनो [Read more...]

मुख्य समाचार

पाकिस्तान डरा, संयुक्त राष्ट्र से भारत को रोकने की गुहार लगाई

नई दिल्ली : जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में केन्द्रीय आरक्षित सुरक्षा बल (सीआरपीएफ) के काफिले पर आतंकी हमले के बाद भारत ने पाकिस्तान की कूटनीतिक घेराबंदी शुरु कर दी है। इसके तहत भारत ने पाकिस्तान से सबसे पसंदीदा राष्ट्र का दर्जा [Read more...]

जलवायु परिवर्तन के कारण भारत में मौसमी स्थितियां बदल जाएंगीः शोध

वाशिंगटन : प्रोसीडिंग्स ऑफ द नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज पत्रिका में प्रकाशित एक अध्ययन में पाया गया है कि जलवायु परिवर्तन के कारण भारत समेत उत्तरी गोलार्ध के क्षेत्रों में मौसमी स्थितियां निष्क्रिय हो सकती हैं और भयंकर तूफान आ [Read more...]

ऊपर