अमेरिका ने फिर भारतीयों को दिया झटका, एच-1 बी वीजा के लिए लगाया यह शर्त

वॉशिंगटनः अमेरिका ने एक बार फिर से भारतीयों को झटका दिया है। इस बार उसने विदेशी कामगारों को अवसर देने के तहत एच-1बी वीजा आवेदन से संबंधित नई नीति की औपचारिक घोषणा की है। इस नीति में कहा गया है कि नई नीति ज्यादा सक्षम, प्रभावी है और यह योग्य लोगों को अमेरिका में आकर्षित करने में कामयाब रहेगी। अंतिम नियम उस आदेश को पलट देगा जिसके अमेरिकी सिटिजनशिप एंड इमिग्रेशन सर्विसेस (यूएससीआईएस) नियमित कैप और एडवांस डिग्री छूट के तहत एच-1बी अर्जियों का चयन करती थी। एच-1बी वीजा को लेकर बनाए गए नए नियम फेडरल रजिस्टर में प्रकाशित किए जाएंगे। बता दें कि प्रत्येक वर्ष इसका लाभ 65 हजार भारतीय उठाते हैं।
1 अप्रैल से होगा लागू
एक अप्रैल से लागू होने वाले नए नियमों में इमिग्रेशन सर्विसेस पहले उन एच-1बी आवेदनों को चुनेगा, जिन्हें लाभार्थियों की तरफ से भेजा गया हो। इसमें वह लोग भी शामिल हैं जिन्हें एडवांस्ड डिग्री में छूट मिल सकती है। इसके बाद इमिग्रेशन विभाग बाकी बचे आवेदनों में से चुनेगा। एच-1बी वीजा एक नॉन-इमिग्रेंट वीजा है जिसकी भारतीय आईटी कंपनियों में काफी मांग है। इसके तहत अमेरिकी कंपनियां विदेशी एक्सपर्ट्स को अपने यहां नियुक्त करती हैं। इमिग्रेशन सर्विसेज के निदेशक फ्रांसिस सिस्ना ने बताया, “नए नियमों में सामान्य और स्मार्ट बदलाव किए गए हैं, इससे कंपनियों को काफी फायदा होगा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

ऊपर