एच-1बी वीजा की संख्या घटाने की कोई योजना नहीं है

अमेरिका के विदेश विभाग ने कहा

वॉशिंगटनः अमेरिका ने कहा कि उसकी डेटा को स्थानीय स्तर पर रखने पर जोर देने वाले देशों के लिए एच -1 बी वीजा की संख्या सीमित करने की योजना नहीं है। अमेरिका के विदेश विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि वीजा कार्यक्रम की ट्रंप सरकार की समीक्षा डेटा के मुक्त प्रवाह पर भारत के साथ चल रही बातचीत से ‘ पूरी तरह से अलग ‘ है। प्रवक्ता ने कहा, ‘ यह समीक्षा किसी देश विशेष के लिए नहीं है और भारत के साथ आंकड़ों के मुक्त प्रवाह को लेकर चल रही बातचीत से अलग है। ‘ इसके पहले भारत के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने गुरुवार को इस संबंध में को कहा था कि एच -1 बी वीजा की संख्या को सीमित करने के बारे में अमेरिका से किसी तरह की सूचना नहीं मिली है।

एच -1 बी वीजाः एच -1 बी वीजा एक गैर – प्रवासी वीजा है जो अमेरिकी कंपनियों को विदेशी कर्मचारियों को खासतौर से तकनीकी विशेषज्ञता वाले पेशवरों को नौकरी पर रखने की अनुमति देता है।

क्या है मामलाः ऐसे समय विदेश विभाग के प्रवक्ता का यह बयान आया है जब खबरें आ रही हैं कि अमेरिका ने भारत से कहा है कि वह उन देशों के लिए एच -1 बी वीजा की संख्या को 10-15 प्रतिशत पर सीमित करने पर विचार कर रहा है, जहां पर आंकड़ों को स्थानीय स्तर पर संग्रहीत (डेटा स्थानीयकरण) करने की नीति है। प्रवक्ता ने कहा, ‘ ट्रंप सरकार की ‘ अमेरिकी खरीदो अमेरिकी को रखो ‘ का आदेश एच -1 बी वीजा समेत अमेरिका के कार्य वीजा कार्यक्रमों की विस्तृत समीक्षा का आह्वान करता है। ‘ अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने दो साल पहले ‘ अमेरिकी खरीदो अमेरिकी को रखो ‘ सरकारी आदेश पर हस्ताक्षर किए थे। यह अमेरिकी कामगारों के लिए अधिक वेतन और रोजगार सुनिश्चित करता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

Jagdip Dhankhar

धनखड़ के खिलाफ विधान सभा से संसद तक मोर्चाबंदी

कोलकाता : ऐसा पहली बार हुआ है जब विधानसभा में सत्ता पक्ष ने धरना दिया। कारण थे राज्यपाल जगदीप धनखड़, जिन पर विधेयकों को मंजूरी आगे पढ़ें »

मेरे कंधे पर बंदूक रखकर चलाने की को​शिश न करें – धनखड़

कोलकाता : राज्यपाल जगदीप धनखड़ और तृणमूल सरकार के बीच संबंधों में मंगलवार को और खटास आ गयी जब उन्होंने ‘कछुए की गति से काम आगे पढ़ें »

ऊपर