एचपी ने नकली उत्पादों के खिलाफ मुहिम शुरू की

नई दिल्ली: एचपी ने भारतीय बाजार में नकली उत्पादों के बारे में जागरूकता बढ़ाने के मकसद से एंटी-काउंटर फीटिंग एंड फ्रॉड (एसीएफ) प्रोग्राम के परिणाम जारी किए हैं। यह प्रोग्राम नकली इंक तथा टोनर प्रिंटिंग सप्लाई के निर्माण, वितरण तथा बिक्री से निपटने में मददगार है। इस प्रोग्राम के चलते पिछले साल के दौरान भारत में 80 करोड़ रुपए मूल्य के नकली उत्पादों को बरामद किया गया और कुल 33.5 करोड़ रुपए मूल्य के नकली उत्पादों के साथ दिल्ली-राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र इस मामले में सबसे आगे बना हुआ है।

बेंगलुरू 22 करोड़ रुपए मूल्य के नकली उत्पादों के साथ दूसरे, मुंबई तथा चेन्नई में 6.5 करोड़ रुपए और 3.5 करोड़ रुपए के माल की बरामदगी के साथ दूसरे एवं तीसरे स्थान पर रहे। प्रवर्तन अधिकारियों ने देशभर में 170 से अधिक परिसरों में छापे मारे और कुल 144 गिरफ्तारियां कीं। छापे के दौरान बरामद सामग्री में फिनिश्ड और अनफिनिश्ड का काट्रिरिज, पैकेजिंग मैटिरियल तथा अन्य कई तरह के लेबल मिले हैं। इनका इस्तेमाल नकली एचपी प्रिंट सप्लाई के निर्माण के लिए किया जाता था। एचपी के एक अधिकारी ने बताया कि नकली उत्पाद किसी भी व्यवसाय के लिए बड़ा जोखिम पैदा करते हैं और डाउन टाइम तथा कैपिटल लागत को प्रभावित करते हैं।

नकली प्रिंटिंग सप्लाई की वजह से अक्सर प्रिंटर को नुकसान पहुंचता है और उसमें खराबी भी आ सकती है साथ ही यह राजस्व घाटे और कारोबार के डाउन टाइम को भी प्रभावित करता है क्योंकि इन नकली उत्पादों पर किसी किस्म की वारंटी नहीं मिलती। एचपी देश में सप्लाई चेन में नकली उत्पादों को पकड़ने के लिए समय-समय पर ऑडिट करने के अलावा प्रवर्तन एजेंसियों के साथ मिलकर छापे भी मारती है, ताकि ग्राहकों एवं व्यवसायों के हितों को सुरक्षित किया जा सके। इस प्रक्रिया का पालन करने से ग्राहक तथा पार्टनर नकली इंक एवं टोनर खरीदने से बचते हैं और साथ ही बाजार में नकली उत्पादों की सप्लाई भी कम होती है।

प्रवर्तन एवं छापों के अलावा, एचपी के बड़े एवं मंझोले ग्राहक कस्टमर डिलीवरी इंस्पेक्शन (सीडीआई) की मदद भी ले सकते हैं। यह अनूठा सुरक्षा प्रोग्राम है जो डिलीवरी में नकली उत्पादों की मौजूदगी का पता लगाता है। ग्राहक नकली उत्पादों की सूचना एचपी की वेबसाइट पर ऑनलाइन भी दे सकते हैं। एचपी चैनल पार्टनर प्रोटेक्शन ऑडिट (सीपीपीए) की मद से अपने चैनल पार्टनरों और ग्राहकों को अनधिकृत प्रिंटिंग सप्लाई से सुरक्षा प्रदान करती है जो ग्राहक सीपीपीए प्रमाणित पार्टनर्स से सप्लाई लेते हैं, वे अपनी इंक एवं टोनर प्रिंट सप्लाई को लेकर आश्वस्त हो सकते हैं।

एसीएफ प्रोग्राम के जरिए एचपी का मकसद कारोबारों को उन तमाम समस्याओं से निजात दिलाना है जो नकली सप्लाई की वजह से पैदा हो सकती हैं। असली एचपी सप्लाई की खरीद को लेकर सुनिश्चित होने के लिए कंपनियां कई उपाय कर रही हैं, जिसमें से नकली बिक्री प्रक्रियाओं को लेकर जागरूक बनाना (आॅनलाइन नीलामी साइटों पर एकमुश्त बिक्री या अचानक कीमतों में गिरावट की पेशकश)। नकली उत्पादों से बचने के लिए केवल अधिकृत एचपी सेल्स पार्टनर्स से ही खरीदें और खरीद या टेंडरिंग के समय असली एचपी उत्पादों की मांग करें। असली एचपी इंक या टोनर की पहचान, नकली उत्पादों की रिपोर्ट करने या धोखाधड़ी से बचने के उपायों के बारे में और जानकारी के लिए देखें।

शेयर करें

मुख्य समाचार

filhal

‘फिलहाल पार्ट 2’ रिलीज होने को तैयार, सामने आया पोस्टर

नई दिल्ली : बॉलीवुड के खिलाड़ी कुमार यानी ‌अभिनेता अक्षय कुमार का दूसरा म्यूजिक वीडियो 'फिलहाल पार्ट 2' रिलीज होने जा रहा है। इस गाने आगे पढ़ें »

periyar

रजनीकांत के बयान के बाद तमिलनाडु में पेरियार की प्रतिमा के साथ की गई तोड़फोड़

चेन्नई : तमिलनाडु के कांचीपुरम जिले में शुक्रवार की सुबह तर्कवादी नेता ई वी रामास्वामी पेरियार की प्रतिमा टूटी-फूटी हालत में पायी गई। पुलिस सूत्रों आगे पढ़ें »

ऊपर