उज्जीवन स्मॉल फाइनेंस के आईपीओ में निवेशक दिखा रहे हैं रूचि

नई दिल्ली : खुदरा निवेशकों ने उज्जीवन स्मॉल फाइनेंस बैंक के आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (आईपीओ) में जबरदस्त रुचि दिखाई है और कंपनी के आईपीओ को बुधवार को शाम चार बजे तक 164.20 गुना अधिक का अभिदान मिल चुका है। कंपनी ने 750 करोड़ रुपये जुटाने के लिए बोलियां आमंत्रित की थी और कंपनी के आईपीओ के लिए आज आखिरी थी।

आपको बता दें कि कंपनी के आईपीओ के लिए सब्सक्रिप्शन की शुरुआत सोमवार को हुई थी। कंपनी ने 36-37 रुपये प्रति शेयर की दर तय कर रखी थी। उज्जीवन स्मॉल फाइनांस बैंक इस आईपीओ से प्राप्त अधिकतर राशि का इस्तेमाल टीयर-1 शहरों में अपनी पूंजीगत जरूरतों को पूरा करने के लिए करेगी। उज्जीवन स्मॉल फाइनेंस बैंक के आईपीओ का लॉट साइज 400 शेयरों का था, जिसका मतलब है कि इस आईपीओ के आवेदन के लिए कम-से-कम 14,800 रुपये की जरूरत थी। खुदरा निवेशकों के लिए अधिकतम निवेश की सीमा दो लाख रुपये थी और इस आईपीओ को दूसरे दिन 4.86 गुना अधिक सब्सक्रिप्शन मिला था।

उज्जीवन स्मॉल फाइनांस बैंक ने एक बयान में कहा कि कंपनी ने एंकर इंवेस्टर्स के जरिए 303.75 करोड़ रुपये जुटाए हैं। कंपनी के एंकर इंवेस्टर बीडिंग में सिंगापुर सरकार, मॉनेटरी अथॉरिटी ऑफ सिंगापुर, एचडीएफसी लाइफ इंश्योरेंस कंपनी, बजाज अलियांज लाइफ इंश्योरेंस कंपनी, सुंदरम म्यूचुअल फंड और आईसीआईसीआई प्रुडेंशियल जैसी कंपनियों ने हिस्सा लिया। कोटक महिंद्रा कैपिटल कंपनी, जेएम फाइनेंशियल और आईआईएफएल सिक्योरिटीज इस ऑफर को मैनेज कर रहे हैं। माइक्रो-फाइनेंस कंपनी उज्जीवन फाइनेंशियल सर्विसेज ही उज्जीवन स्मॉल फाइनांस बैंक की होल्डिंग कंपनी है।

इसके बाद उज्जीवन स्मॉल फाइनांस बैंक में प्रवर्तकों की हिस्सेदारी घटकर 84% हो जाएगी। आरबीआई के दिशा-निर्देश है कि अगले दो साल में प्रवर्तकों की हिस्सेदारी को घटाकर 40 फीसद लाना। उज्जीवन स्मॉल फाइनेंस बैंक के शेयरों का आबंटन नौ दिसंबर, 2019 को पूरा होने एवं बीएसई एवं एनएसई पर 12 दिसंबर, 2019 को लिस्टिंग की संभावना है। बैंक की उपस्थिति 24 राज्यों एवं केंद्रशासित प्रदेशों में है और 30 सितंबर, 2019 तक इसके ग्राहकों की संख्या 49.4 लाख थी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

रेणु के कालजयी उपन्यास ‘मैला आंचल’ की मूल प्रति चोरी

'परती परिकथा' और अधूरे उपन्यास 'कागज की नाव' की मूल प्रतियां भी ले गये चोर पटना : हिन्दी उपन्यास साहित्य में आंचलिक धारा के प्रवर्तक फणीश्वरनाथ आगे पढ़ें »

न्यायालय का सिविल सेवा परीक्षा 2020 स्थगित करने से इंकार

नयी दिल्ली: उच्चतम न्यायालय ने कोविड-19 महामारी और देश के कई राज्यों में बाढ़ की स्थिति के मद्देनजर चार अक्टूबर को होने वाली संघ लोक आगे पढ़ें »

ऊपर