पीएफ खाताधारकों को मिलेगा निवेश घटाने-बढ़ाने का विकल्प !

नयी दिल्लीः नये साल में अपने अंशधारकों को कर्मचारियों के सेवानिवृत्ति कोष का प्रबंधन करने वाला कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) अपने कोष से शेयर बाजार में किए जाने वाले निवेश को बढ़ाने या घटाने का विकल्प दे सकता है। इसके अलावा ईपीएफओ कई अन्य सामाजिक सुरक्षा लाभ और कोष के प्रबंधन के डिजिटल साधन जैसी सुविधाएं भी उपलब्ध करा सकता है। ईपीएफओ की शीर्ष निर्णय इकाई केंद्रीय न्यासी बोर्ड (सीबीटी) ने इस साल की शुरुआत में अंशधारकों को शेयर निवेश सीमा को अधिक या कम करने की सुविधा उपलब्ध कराने की संभावनाएं तलाशने का सुझाव दिया था।
क्या है स्थित‌ि

ईपीएफओ खाताधारकों के जमा का 15 प्रतिशत तक वर्तमान में एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ईटीएफ) में निवेश करता है। इस मद में अब तक करीब 55,000 करोड़ रुपये का निवेश हुआ है। ईटीएफ में किया गया निवेश अंशधारकों के खाते में नहीं दिखाई देता है और न ही उनके पास अपनी भविष्य की इस बचत से शेयर में निवेश की सीमा बढ़ने का विकल्प है।

सॉफ्टवेयर का विकास

अब कर्मचारी भविष्य निधि संगठन एक ऐसा सॉफ्टवेयर विकसित कर रहा है जो कि सेवानिवृत्ति बचत में नकदी और ईटीएफ के हिस्से को अलग-अलग दिखाएगा। वर्तमान में खाते में सिर्फ बचत दिखाई देती है जिसमें नकदी और ईटीएफ समेत अन्य घटक शामिल होते हैं। आपके ईपीएफ खाते में नकद और ईटीएफ का हिस्सा एक बार जब अलग-अलग दिखने लगेगा तो ईपीएफओ का अगला कदम अंशधारकों को शेयर में निवेश बढ़ने या घटाने का विकल्प देना होगा। वर्तमान में ईपीएफओ के दायरे में 190 उद्योगों से जुड़ 20 करोड़ से अधिक ईपीएफओ खाते और 11.3 लाख इकाइयां हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

diabetes-day-image

ऐसी जीवनशैली अपनाएंगे तो नहीं होगी डायबिटीज

मधुमेह के लक्षण, इलाज और घरेलू उपचार हमारी बिगड़ती जीवनशैली के कारण हमारा शरीर कई बीमारियों का घर बन गया है। इन्हीं बीमारियों में से एक आगे पढ़ें »

डेहरी ऑन सोन : बोलेरो और गैस टैंकर की टक्कर में दो की मौत, पांच गंभीर

डेहरी ऑन सोन : बिहार में रोहतास जिले के डेहरी के अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी संजय कुमार ने बुधवार को यहां बताया कि स्थानीय सूअरा मोड़ आगे पढ़ें »

ऊपर