इस वेबसाइट पर एमएसएमई एक घंटे से भी कम समय में ले सकते हैं 5 करोड़ रुपये तक लोन

नई दिल्ली : मोदी सरकार द्वारा सूक्ष्म, छोटे और मझोले उद्योगों के लिए एक घंटे से भी कम समय में 1 करोड़ रुपये तक के लोन की मंजूरी देने के बाद अब सरकारी बैंक पीएसबीलोनसीन 59 मिनट्स पोर्टल पर रिटेल प्रोडक्ट्सए जैसे हाउसिंग और ऑटो लोन देने की तैयारी कर रहे हैं। बैंक इस पोर्टल के जरिये अपने खुदरा लोन पोर्टफोलियो का विस्ता र कर रहे हैं।

अभी एसबीआई, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया और कॉरपोरेशन बैंक एमएसएमई को  पीएसबीलोनसीन 59 मिनट्स पोर्टल पर 5 करोड़ रुपये तक का लोन दे रहे हैं। बैंक ऑफ इंडिया इस पोर्टल के जरिए रिटेल प्रोडक्ट़ को भी ग्राहकों तक पहुंचाने  की योजना पर काम कर रही है। बैंक ऑफ इंडिया के जनरल मैनेजर सलिल कुमार स्वैन ने कहा कि इस पोर्टल के जरिए ग्राहकों को होम और ऑटो लोन की सुविधा दी जाएगी।

इंडियन ओवरसीज बैंक (आईओबी) को पीएसबीलोनसीन 59 मिनट्स प्लेटफॉर्म पर अच्छा रेस्पोंस मिल रहा है। आईओबी न भी आने वाले समय में एमएसएमई को दिए जाने वाले लोन की सीमा बढ़ाकर 5 करोड़ रुपये करने का मन बना रही है, वह इस प्लैहटफॉर्म पर रिटेल प्रोडक्ट्से (होम और ऑटो लोन) भी उपलब्धन कराने पर विचार कर रहा है।

एक अन्यर सरकारी बैंक के वरिष्ठर अधिकारी ने कहा कि अगर होम और ऑटो लोन जैसे प्रोडक्ट्सक पीएसबीलोनसीन 59 मिनट्स प्लै टफॉर्म पर लॉन्चर किए जाते हैं तो इससे बैंक के रिटेल बिजनेस का विस्तािर होगा। साथ ही, ट्रांजेक्शलन की लागत भी कम होगी।

इस तरह करता है काम
एमएसएमई इस प्लेरटफॉर्म के जरिए जब लोन के लिए आवेदन करते हैं तो उन्हेंर 59 मिनट के भीतर मंजूरी मिल जाती है। साथ ही वे लोन के लिए बैंक भी चुन सकते हैं। अप्रूवल लेटर मिलने के बाद उन्हेंस 7-8 दिनों में लोन मिल जाता है। इस पोर्टल की शुरुआत नवंबर 2018 में की थी और चार महीने में ही इस पोर्टल के जरिए 35,000 करोड़ रुपये के लोन की मंजूरी दी गई थी। 31 मार्च 2019 तक इस पोर्टल के जरिए 50,706 आवेदनों को सैद्धांतिक मंजूरी मिली।

शेयर करें

मुख्य समाचार

france

फ्रांस में विदेशी इमाम और मुस्लिम शिक्षकों पर लगा प्रतिबंध, राष्ट्रपति बोले- ये कट्टरता और नफरत फैलाते हैं

पेरिस : फ्रांस के सरकार ने बुधवार को विदेशी इमामों और मुस्लिम शिक्षकों के देश में आने पर प्रतिबंध लगा दिया है। राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों आगे पढ़ें »

children

भारत बच्चों के स्वस्थ एवं खुशहाल जीवन के मामले में 131वें स्थान पर

संयुक्त राष्ट्र : संयुक्त राष्ट्र समर्थित एक रिपोर्ट आई है जिसके मुताबिक संवहनीयता सूचकांक (सस्टेनेबिलीटी इंडेक्स) के मामले में भारत 77वें स्थान पर है और आगे पढ़ें »

ऊपर