इधर खाते में पैसा, उधर आयकर नोटिस

नई द‌िल्लीः कालाधन को सफेद बनाने का प्रयास कर रहे लोगों के प्रत‌ि आयकर ने सख्ती की दिशा में कार्य शुरू क‌िया है। ऐसे मामले सामने आने के बाद प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) भी खोजबीन में लग गई है। सूत्रों की माने तो कुछ विभागों में अफसरों द्वारा बड़े पैमाने पर यह गोरखधंधे अंजाम देने की लगातार शिकायतें मिल रही हैं। ईडी और आयकर विभाग में यूपी के शराब सिंडीकेट को पकड़ा जहाँ पचास करोड़ की रकम को छोटे नोटों में बदली जा रही थी। एजेंसियों के पास कई नेताओं की शिकायतें भी आ रही है जिनमें उनके पास बड़े पैमाने पर काला धन होने की आशंका जताई गयी है। सरकार द्वारा खुलवाए गए जनधन अकाउंट में भी अचानक से लाखों रुपये जमा होने की बात सामने आई है। ऐसे मामलों की जाँच के साथ ही 2.5 लाख से ज्यादा जमा करने वालों को भी इनकम टैक्स ने नोटिस भेजना शुरू कर दिया है। इनकम टैक्स ने पैसों की जानकारी का ब्योरा मांगा है। इनसे दो साल के इनकम टैक्स रिटर्न की कॉपी भी मांगी है।

जान पहचान के लोगों के खाते में जमा

लोग सरकार को 30 फीसदी टैक्स और जुर्माना देने की बजाय अन्य उपायों के जरिये पैसे को बदलवाना या ठिकाने लगाना ज्यादा पसंद कर रहे हैं। सरकार के निर्देश के मुताबिक 2.5 लाख तक की राशी जमा कराने पर टैक्स नहीं लगता ऐसे में लोग अपने जान पहचान वालों के अकाउंट में पैसे जमा करा रहे हैं। कई जगह बैंक वालों की मिली भगत भी सामने आई है। ऐसे भी मामले सामने आये हैं कि लोगों ने अपने यहां काम करने वाले वर्कर्स के आईडी कलेक्ट कर के बैंक वालों को कमीशन देकर पैसे की अदला- बदली की है।

प्रोपर्टी और सोने में इन्वेस्टमेंट

कई मामले ऐसे भी आयें हैं, जिनमें लोग बैक डेट में फ्लैट खरीद रहे हैं। एक बिल्डर के ठिकानों पर आयकर विभाग ने छापेमारी की। आयकर विभाग के सूत्रों के मुताबिक यह छापेमारी बिल्डर के दिल्ली और यूपी के करीब 22 ठिकानों पर हुई, इनमें से आठ लखनऊ के हैं। आयकर विभाग के अधिकारियों ने जांच में पाया की बिल्डर ने काले धन को सफेद करने के लिए 500 व 1000 के नोटों के जरिए फ्लैट बुक कराया था। पुराने नोटों से ज्वेलरी या सोने के बिस्किट खरीदने के मामले भी सामने आ रहे हैं। ब्लैक मार्केट में सोने की कीमत तकरीबन दोगुनी हो चुकी है। आयकर विभाग के अधिकारी बताते हैं कि उन्हें इस बात की खबर मिल रही है कि देश के कई हिस्सों में सोने के जरिये ब्लैक मनी को सफेद किया जा रहा है। पिछले एक हफ्ते में दर्जनों शहरों में सोना कारोबारियों पर छापे मारे गये हैं। कुछ लोग ब्लैक मनी जान पहचान वाले ज्वेलर्स के पास जमा करा रहे हैं और उनसे चेक ले रहे हैं। खरीदारी की रसीद बैक डेट में दिखाया जा रहा है। यही नहीं कई ज्वेलर्स पुराने नोट खपाने के लिए आये लोगों से अधिक मूल्य पर ज्वेलरी दे रहे हैं।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

सैमसंग अप्रैल में लॉन्च करेगा गैलेक्सी ए90, जानिए क्या हैं खूबियां

नई दिल्ली : कोरियन इलेक्ट्रॉनिक्स कंपनी सैमसंग जल्द ही अपने नए स्मार्टफोन गैलेक्सी ए90 को लॉन्च करने वाली है. कुछ रिपोर्ट्स के मुताबिक यह फोन जल्दी चार्ज होगा और इसमें डिस्प्ले भी बड़ा हो सकता है. डिजाइन की बात करें [Read more...]

जेसीबी भारत में 650 करोड़ रुपये निवेश करेगी, गुजरात में खोलेगी छठी फैक्ट्री

नई दिल्ली : जेसीबी भारत में निर्माण के 40 वर्षों का उत्सव मनाने जा रही है। कंपनी इस मौके पर नया संयंत्र की स्थापना करेगी और इस पर 650 करोड़ रुपये का निवेश करेगी। नई फैक्ट्री गुजरात के वडोदरा में [Read more...]

मुख्य समाचार

भाजपा वरिष्ठों का सम्मान न कर करती है विभाजन की राजनीति : ममता

कोलकाता : पहले उम्मीदवार की तालिका, फिर चुनावी प्रचार की लिस्ट से लालकृष्ण अाडवाणी जैसे वरिष्ठ नेता को बाहर का रास्ता दिखाना, तृणमूल की प्रमुख ममता बनर्जी को रास नहीं आ रहा है। इस पर अपनी प्रतिक्रिया देते [Read more...]

भाजपा ने जारी की 10 उम्मीदवारों की सूची

कोलकाता : मंगलवार को भाजपा ने 10 उम्मीदवारों की एक और सूची जारी कर दी है। अब तक पार्टी कुल 40 उम्मीदवारों की घोषणा कर चुकी है और अब भी 2 उम्मीदवारों की घोषणा बाकी है। मंगलवार को [Read more...]

सारधाकांड : सुप्रीम कोर्ट ने कहा सीबीआई ने बहुत ही गंभीर खुलासे किए हैं

काम करने तेल टैंकर में उतरे युवकों की मौत, सनसनी

भाजपा की नई सूची में जयप्रदा को रामपुर से टिकट, मनोज सिन्‍हा गाजीपुर से तो बलिया से वीरेंद्र सिंह मस्त

पटना में लगे ‘गो बैक रविशंकर’ के नारे, आपस में भिड़े भाजपाई तो पुलिस ने भांजी लाठियां

सैमसंग अप्रैल में लॉन्च करेगा गैलेक्सी ए90, जानिए क्या हैं खूबियां

सुरक्षाबलों ने सुकमा में चार नक्सलियों को मार गिराया, भारी मात्रा में हथियार बरामद

चीन ने अरुणाचल प्रदेश को उसका हिस्सा ना दिखाने वाले 30,000 मानचित्र किए नष्ट

लोकसभा चुनाव : तेलंगाना से 200 किसानों ने भरा पर्चा

ऊपर